“अच्छे के लिए स्पॉट्स से छुटकारा पाने के लिए |मुँहासे के लिए सबसे अच्छा समाधान”

एक बलगम निकालने वाली दवाई लें: यह ऐसी दवाईयाँ होती हैं जो आपके गले और नाक की बलगम को तोड़ती हैं और आसानी से इसे खाँसकर अपने शरीर से निकालने में आपकी मदद करती हैं। इनमें से बहुत सारी स्थानीय दवा की दुकानों पर ओवर-द-काउंटर उपलब्ध होती हैं, जबकि कुछ को डॉक्टर लिखकर देते हैं। खुराक निर्देशों का पालन करें और बलगम की वजह से हो रहे जमाव से आराम पाने के लिए दवाई को रोज़ लें।[३]

फूड एलर्जैन्स से बचें: किसी भी खाने के लिए एलर्जी या संवेदनशीलता बलगम का निर्माण एवं उसे गाढ़ा कर सकती है। अगर आपकी बलगम की समस्या स्थायी है और किसी विशिष्ट कोल्ड या बीमारी से संबंधित नहीं है, तो उसका टेस्ट कराना फायदेमंद हो सकता है क्योंकि इससे आप यह जान पाएँगे कि कहीं इस बलगम का कारण फूड एलर्जी तो नहीं है। सबसे आम फूड एलर्जैन्स हैं:

मुझे कील – मुंहासो से सबसे ज्यादा राहत नींबू के रस से ही मिली थी. नींबू बड़ी आसानी से कम Price में बाजार में उपलब्ध हो जाता है. यह हमारे त्वचा को काफी सुन्दर बनाता है. आप नींबू को काटकर उसका रस अपने दाग या मुंहासो में लगा ले.

आप शहद के साथ थोड़े पिसे हुए बादाम मिलाकर मिश्रण भी बना सकते हैं। मृत कोशिकाओं को हटाने के लिए हल्के हाथों से इस पेस्ट से अपनी त्वचा की मालिश करें। फिर अपने चेहरे को गर्म पानी में भिगोये हुए कपड़े की सहायता से पोंछे इससे आपके बंद छिद्र खुलेंगे। यह प्रक्रिया सप्ताह में एक बार करें।

कई बार मुंह में लार कम बनने से भी सांसों से बदबू की समस्या हो सकती है। मुंह में रह गए भोजन के कण और बैक्टीरिया कई बार इन्फेक्शन पैदा कर देते हैं जिससे भी सांसों से बदबू आती है। लार इन कणों और बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करती है।

त्वचा पर मस्सों का होना काफी गंभीर समस्या है। यह ना केवल एक ही स्थान पर बल्कि हर स्थान पर होने लगते है। काले या भूरे रंग के ये मस्से त्वचा की अवांछित वृद्धि करते है, जिससे छुटकारा पाने के लिए लड़कियां शल्य चिकित्सा पद्धतियों का उपयोग कर, इसे हटाने का प्रयास करती हैं। लेकिन आज हम आपको बता रहें है सबसे आसान तरीका जिसे आप घर बैठे ही इसका उपचार कर सकती हैं।

भोजन में दालचीनी पाउडर का 1 चम्‍मच रक्‍त में शर्करा का स्‍तर कम करता है। इसके प्रयोग से टाइप टू डायबीटिज में रक्‍त शर्करा 18 से 24 फीसदी तक कम हो सकती है। टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों के लिए दालचीनी एक वरदान से कम नहीं है। दालचीनी टाइप-2 मधुमेह पर सकरात्मक प्रभाव डालता है और मधुमेह रोगी को एक स्वस्थ और साधारण जीवन व्यतीत करने में मदद करता है।

HealthBeautyTips.co.in पर उपलब्ध सभी जानकारी हमारे लेखक के ज्ञान अनुभव तथा स्वास्थ्य क्षेत्र से सम्बंधित अन्य विशेषज्ञों की राय तथा उनके द्वारा लिखे गए विभिन्न लेखो पर गहन रिसर्च के माध्यम से होती है, फिर भी पाठकों से हमारा निवेदन है कि किसी भी जानकारी को व्यावहारिक रूप में आजमाने से पहले अपने चिकित्सक या सम्बंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ से राय अवश्य ले। क्योकि व्यक्ति विशेष की स्वास्थ्य परिस्थिति अलग-अलग होती है |

1  नीबू के रस में बराबर मात्रा में गुलाब जल डालकर मिश्रण तैयार करें और उसे चेहरे पर लगाये उसे आधे घंटे रखे फिर ताजे पानी से चेहरा धोले . इस प्रयोग को 10 से 15 दिन तक करें जिससे मुँहासे ठीक हो जाते हैं .

एंटी बैक्‍टीरियल के साथ-साथ एंटीबायोटिग गुणों से समृद्ध होने के कारण, लहसुन दांतों के टूटने और कैविटी की समस्‍या को दूर करने में मदद करता है। यह दर्द से राहत देने और स्‍वस्‍थ मसूड़ों और दांतों के लिए भी अच्‍छा होता है। 3 से 4 लहसुन की कली को कुचलकर और 1/4 चम्‍मच सेंधा नमक मिलाकर पेस्ट बना लें। फिर इसे संक्रमित दांत पर लगाकर 10 के लिए छोड़ दें। कैविटी को कम करने के लिए इस उपाय को कुछ दिनों के लिए दिन में दो बार करें।  

ठंड के दिनों में धुप में बैठने में बहुत मज़ा आता है, और इस आराम के दौरान सनबर्न को ध्यान नहीं देते । ये sunburns आपकी त्वचा की गुणवत्ता को बर्बाद कर सकते हैं और यह वास्तव में दर्द का कारण बन सकते हैं | ice cube को aloe vera के साथ इस्तेमाल करना sunburn के सबसे अच्छा उपचार में से एक हो सकता है | Aoe vera का शीतलन प्रभाव सनबर्न में आराम प्रदान करता है | इसके स्थान पर खीरा का भी इस्तेमाल किया जा सकता है |

एक छोटा चम्मच ताजे नींबू के रस को डेढ़ बड़े चम्मच पानी के साथ मिलाएं। रुई की सहायता से इस मिश्रण को अपनी त्वचा पर लगाएं। इसे 10 मिनट के लिए सूखने दें और फिर अपना चेहरा गर्म पानी से धो लें। नींबू का रस आपकी त्वचा को सुखा सकता है इसलिए इसे करने के बाद थोड़ा सा तेल रहित मॉइस्चराइज़र लगाएं। यह प्रक्रिया रोज़ाना दिन में एक बार करें।

फेसबुक के जरिए मारिया को जब यह पता लगा तो उसने सुरेश पर शादी करने का दबाव डाला, सुरेश ने उससे भी शादी कर ली। पुलिस को जब मारिया की लाश मिली तो वह सुरेश की तलाश में उसके गांव पहुंचे। सुरेश को इसकी जानकारी हो गई और वह नेपाल भाग गया। पुलिस ने उसे नेपाल से गिरफ्तार किया।

If u have oily skin.. wash ur face only with water ….when oil comes on ur face.. n on pimple u can apply clindamycin phosphate 1% in a day . Or in night u should apply aziderm acid cream so that ur marks on face removes.. one tablet of vitamin c in a day.. in 10 days u see pimples gone.. marks gone . After u wash ur face with himalaya neem face wash .

समुद्री नमक के इलाज से वास्तव में आपको मुँहासे से मुक्ति मिल सकती है। जिन जिन लोगों ने पीठ के मुँहासे के इलाज के लिए इस उपाय का इस्तेमाल किया है, उन्होनें इसके तुरंत और प्रभावी समाधान की हमेशा प्रशंसा की है।

फिलर का प्रयोग करें: मुँहासे आपकी त्वचा पर हमेशा के लिए दाग छोड़ सकते हैं, जिसे भरना नामुमकिन साबित हो सकता है | फिलर इंजेक्शन इन निशानों को भरकर त्वचा को एक समान बनाता है | लेकिन, इस प्रक्रिया को 4-6 महीनों में दोहराना पड़ता है |[१०]

अम्लिय पेय से बचें। यह आपकी सांस और दांत के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, क्योंकि अम्लिय पेय आपके दांतो के इनेमल को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। जितना हो सके अम्लिय पेय पीने से बचे और अगर पीना ही है तो ध्यान रखें कि आप स्ट्रा के जरिए या जल्दी से पीए, बिना मुंह में रखें। आप पानी का इस्तेमाल करके कुल्ला करके अपने खाने के अवशेष को दूर करें।

Sir mujhe pimple ke sath2 bade2 ghao hoo jate h jisme push bhar jata h. Maine homeopathy ayurvedic and alopethic medicine li h phir v 4 year se padeshan hu. Or chechak ke daag hatane k v upay bataye. Please please reply sir

– गर्मियों में हरा ताजा पुदीना पानी मेें उबाल कर छान लें। गुनगुने पानी से कुल्ला करने से भी आराम मिलता है। इसी प्रकार को पानी में उबालकर ठंडा कर छान लें और गुनगुने पानी से कुल्ला करें। मसूड़ों की सूजन भी दूर होगी और दुर्गन्ध भी।

मुंह की बदबू को भगाने का सबसे अचूक उपाय है पानी। आप जितना ज्यादा पानी पिएंगे उतना ही आपको आराम मिलेगा। पानी मुंह के अंदर क्लींजर जैसा काम करता है। दिन भर हम कुछ न कुछ खाते रहते हैं, जिसकी वजह से हमारे मुंह में पहले से ही जो बैक्टीरिया मौजूद होते हैं। इसलिए हमें लगातार पानी पीते रहना चाहिए और सुबह-सुबह ज्यादा पानी पीना चाहिए।

दालचीनी मैंगनीज का भंडार है। इससे स्‍मरण शक्‍ति बढ़ती है। इसलिये बच्‍चों , महिलाओं, मानसिक श्रम करने वालों को ब्रेड पर मक्‍खन या शहद के साथ आधा चम्‍मच दालचीनी पाउडर लगा कर दिन में दो बार लेना लाभदायक होता है।

यह उनमे से किसी के भी साथ हो सकता हैं जो लोग व्रत रखते हैं, चाहे वो धार्मिक कारणों के लिए, या जो खाने में रूचि नहीं लेते। यदि आप खाने में रूचि नहीं लेते हैं तो मुँह से दुर्गंध ही एक कारण हैं खुद को भूखा न रखने का।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *