“अब स्वाभाविक रूप से मुँहासे से छुटकारा +कैसे मुंह से इलाज पाने के लिए”

एलोवेरा में रोगाणुरोधी (Antimicrobial) गुण होते हैं, जो मुँहासे का कारण बनने वाली तेलीय त्वचा के उपचार के लिए आदर्श होते हैं। इसके अलावा, एलोवेरा आपकी त्वचा की सतह से अतिरिक्त तेल को अवशोषित करने में भी मदद करता है। 

जैसा कि आप जानते हैं, त्वचा हालत का एक संकेतक हैशरीर। चेहरे पर मुँहासे की उपस्थिति के कारण दोनों बाह्य और आंतरिक कारकों का असर हो सकता है। जलवायु की स्थिति, कॉस्मेटिक तैयारी का उपयोग, पर्यावरण की स्थिति बाह्य कारक हैं जो त्वचा की स्थिति को प्रभावित करते हैं। उदाहरण के लिए, गर्मी में मुंह का प्रकटन, पराबैंगनी प्रकाश या वृद्धि हुई पसीना आना के परिणामस्वरूप हो सकता है। त्वचा का संदूषण चेहरे पर छोटे खांघों की उपस्थिति की ओर जाता है

अंगूर और सेब दोनों में ही कई प्रकार के पोषक पदार्थ मौजूद होते हैं। इनकी मदद से आपकी त्वचा में गोरापन आता है। सेब का एक छोटा टुकड़ा लें और इसे पीसकर दो हरे अंगूरों के साथ मिश्रित करें। इनकी त्वचा को ना छीलें। इस पैक को अपनी त्वचा पर लगाएं और दाग धब्बों पर ध्यान केन्द्रित करें। आप इससे अपनी त्वचा की हलके से मालिश कर सकते हैं। इसे 10 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर पानी से धो लें। रोजाना इस पैक का प्रयोग करने से आपको 1 महीने में परिणाम दिखने शुरू हो जाएंगे।

निजी स्वच्छता के नियमों की उपेक्षा मत करो दिन में 2 बार अपना चेहरा धो लें, एक व्यक्तिगत तौलिया या नैपकिन के साथ त्वचा को साफ करें आपकी त्वचा के प्रकार के लिए उपयुक्त अतिरिक्त चेहरे का शुद्ध उपयोग करें। विशेष रूप से अच्छी तरह से बिस्तर पर जाने से पहले त्वचा को साफ;

एक अंडे के सफेद भाग फेटें फिर उसमें आधे नींबू का रस डालें और अच्छी तरह से मिलाएं। इस मिश्रण को अपने चेहरे पर लगाएं। इसे 15 मिनट के लिए सूखने दें और फिर गर्म पानी से धो लें। यह त्वचा में कसाव लाता है और अतिरिक्त तेल को सोखता है।

चेहरे पर कील मुहाँसो को मिटाने के लिए आप हर रोज रात को और सवेरे उठ के भाप से त्वचा साफ़ करें चेहरे की त्वचा को बार बार धोते रहें और बिलकुल स्वच्छ रखें चेहरे के त्वचा के छिद्र को खुल्ला और साफ़ रखें पूरा नींद लें फल और सब्जी ज्यादा मात्रा में खाएँ तले हुए तथा मसालेदार आहार को कम मात्रा में खाएँ पानी अधिक मात्र में पिएं कास्मेटिक का उपयोग बिल्कुल ही न करें

फिटकरी और गुलाब जल : फिटकरी और गुलाब जल से बने पेस्ट को अपनी मूछो पर लगाकर आप मनचाहा रंग प्राप्त कर लम्बे समय तक आप जंवा बने रह सकते है इसके लिए फिटकरी को पीसकर इसके पाउडर को गुलाब जल में मिलाकर आप अपनी मूछ पर लगाए।

मुंह से आने वाली शराब की बदबू से बहुत से लोग परेशान रहते हैं और इसे दूर करने के उपाय के बारे में जानने की कोशिश करते हैं। मुंह में कुछ वोलेटाइल मॉलिक्युल्स होते हैं जिसकी वजह से मुंह से बदबू आती है। शराब भी एक वोलेटाइल मॉलिक्युल्स है जिसकी वजह से बदबू की समस्या होती है। शराब आसानी से पचाने में परेशानी होती है क्योंकि शरीर इसे टॉक्सिन के रूप में देखता है। हमारा लीवन एक ड्रिंक को पचाने में एक घंटा लेता है। इस धीमे प्रोसेस की वजह से एल्कोहल आपकी रक्त कोशिकाओं में इकट्ठा हो जाता है जिस कारण बदबू आती है। आइए जानते हैं मुंह से शराब की बदबू कैसे दूर करें। [ये भी पढ़ें: शहद और नींबू के रस की मदद से करें खांसी का इलाज]

धूप में कुछ नीम के पत्ते सुखाकर पीस लें। इस पाउडर को, हल्दी पाउडर और गुलाब जल में मिलाकर एक पेस्ट बनाएं और दानों पर लगाकर २० मिनट बाद धो लें। नीम के पाउडर की जगह आप चन्दन के पाउडर का भी प्रयोग कर सकते हैं जो मुँहासों को कम करने के लिए अच्छा उपाय है।

ताज़े निम्बू का रस लगाएं: निम्बू में प्राकृतिक विरंजन (bleaching ) गुण होते है जिनसे मुहासों के दाग फीके हो जाते हैं | समान मात्रा में निम्बू का रस और पानी मिलाकर, इस मिश्रण को सिर्फ अपने धब्बों पर लगाएं | 15-20 मिनट के बाद धो लें या पूरी रात इस मिश्रण को लगे रहने दें | “चूंकि निम्बू के रस में 2 PH होता है और त्वचा की 4.0-7.0 PH होती है इसलिए अगर इसे लम्बे समय तक त्वचा पर छोड़ा जाए, तो त्वचा जल भी सकती है | खट्टे रस में बर्गप्टेन (Bergapten) नामक रसायन होते हैं जो डीएनए में मिलकर त्वचा को नुकसान पहुँचाते हैं |” इसलिए इसे सावधानी से प्रयोग करें और कम समय के लिए प्रयोग करने से शुरू करें।

I am showing the Bay leaf plant & in our local language it is called Tejpat (তেজ পাত). The leaves have a very good aroma and are mainly used as a spice in Indian cooking since ages. The fresh leaves are very mild and do not develop their full flavor until several weeks after picking and drying. The bay leaves can be powdered and if consumed for 30 days is very effective in treating diabetes. I am showing here two ways how to get the maximum health benefit from its leaves.

दाग धब्बों को खुरचने से बचें: खुरचना त्वचा को ठीक करने की बजाए और ज्यादा खराब कर सकती है | आपके हाथों के बैक्टीरिया खुरचे हुए मुँहासों में मिलकर, आपकी त्वचा को संक्रमित करके सूजा सकती है | इसलिए, हमेशा खुरचने से बचें |

वैकल्पिक रूप से, कुछ मिनटों के लिए पानी में एक एलोवेरा की पत्ती उबाल लें। पेस्ट बनाने के लिए इस पत्ती को शहद के साथ पीस लें। इस पेस्ट को अपनी त्वचा पर अच्छी तरह से लगाएं। इसे 20 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे ठंडे पानी से धो दें। यह उपाय सप्ताह में एक बार करें।

हॉर्सरेडिश आपके चेहरे से काले धब्बे और अन्य दाग दूर करने में काफी प्रभावशाली साबित होता है। हॉर्सरेडिश लेकर इसे किस लें और इससे एक महीन पेस्ट तैयार कर लें तथा अपने चेहरे के प्रभावित भागों पर लगाएं। इसे 15 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर पानी से धो लें। इस उपचार का प्रयोग दिन में कम से कम 2 बार करें और एक महीने में आपको काफी प्रभाव दिखेगा।

चेहरे के पिंपल्ज़ किस प्रकार से मिटेंगे मेरे चेहरा पिंपल्ज़ से बहुत जाएदा भर गया है मेरा पूरा चेहरा इतना खराब हो गया है कि मुझे भी अच्छा नहीं लगता पता नहीं कि ठीक भी होंगे या नहीं बहुत ही परेशान हूँ मेरी परेशानी का हल ज़रूर बताएँ|

homeveda, ayurveda, home remedy, home remedies, natural remedies, natural cure, home cure symptoms, medicine, health, bad breath, bad breath causes, , bad breath disease, bad breath cures, halitosis causes, how to get rid of bad breath, rid, remedies, remedy, cure, cures, causes, cause, how, to, what, how to cure bad breath, home Stuart Edge , top video, must watch, video about bed breath, multi rose life, short films

Tags:muhase hatane ke upay, Pimple hatane ke upay, pimple ke gharelu nuskhe, pimple ke upay in hindi, Pimples ka ilaj, चेहरे के गड्डे, चेहरे के गड्ढे, चेहरे पर फुंसियां, चेहरे से फुंसी, फुंसी का घरेलू इलाज, मुहासे से छुटकारा

दालचीनी एक आम मसाला और स्वाद बढ़ाने वाला एजेंट है लेकिन इसके तेल में माइक्रोबियल विरोधी गुण होते हैं। शहद में पानी का असर बहुत कम होती है इसका मतलब है कि इसमें नमी ज्यादा नहीं होती जो सूक्ष्म जीवाणुओं के विकास को बढ़ावा देती है। यह ध्यान में रखते हुए कि मुँहासों का पैदा होना, त्वचा के छिद्र के भीतर होने वाले संक्रमण से होता है, शहद के साथ दालचीनी का संयोजन एक कारगर उपाय है।

Yoghurt also works as an inflammation reducing agent and reduces the itchiness in the affected region. It can be applied directly on the pimple. It will reduce the temperature of that area and stop the growth of the bacteria in that region, thus helping to kill the pimple.

दालचीनी आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होती है, लेकिन यह सोचकर इसका अधिक मात्रा में सेवन न करें। यदि आपको लगता है कि एक बार में जादा खुराक लेने से आपको दालचीनी का जल्दी लाभ मिलेगा, तो आप जो सोच रहे है वह बिलकुल गलत है। क्योंकि इसके बहुत जादा सेवन से आपको लाभ मिले ना मिले परंतु इसके दुस्प्रभाव का सामना आपको अवश्य करना पड़ सकता है

विभिन्न छालरोग उपचार के विकल्प और कभी-कभी उनमें से प्रत्येक के लिए अलग-अलग विशेषताओं के साथ विभिन्न प्रकार के psoriasis के हैं। एक नियम के रूप में, एक व्यक्ति सोरायसिस के कुछ प्रकार है। जब एक तरह स्पष्ट है, अलग रूप पैदा कर सकते हैं:

अपनी पहली पत्नी के साथ न रह पाने से परेशान एक फिजियोथेरपिस्ट ने अपनी दूसरी पत्नी मारिया मैसी की हत्या कर दी। हत्या के बाद उसने अपनी पत्नी का शव बेड के ही बॉक्स में छिपा दिया। महिला का शव कई दिनों बाद पुलिस ने तुगलकाबाद घर से बरामद किया।

ज्यादा अदरक खाएँ: अदरक के प्राकृतिक जीवाणुरोधी गुणों की वजह से, इसका सदियों से कोल्ड और साइनस (sinus) के लक्षणों के उपचार के लिए इस्तेमाल किया गया है। अदरक ऐसे गुणों के लिए भी जाना जाता है जो बलगम को तोड़ते हैं। अगर आप स्वाद को बर्दाशत कर सकते हैं, तो इसे कच्चा खाएँ या हल्के कैन्डीड फॉर्म (candied form) में खाएँ। आप अदरक को उबलते पानी में घिसकर एक चाय भी बना सकते हैं जो आपके गले को बलगम मुक्त करने के लिए दोगुना काम करेगी।

Psoriasis त्वचा है कि तेजी से प्रजनन लाल रंग के सूखे धब्बे का कारण बनता है पर त्वचा की सतह और त्वचा और अधिक मोटा होना त्वचा सेल की जरूरत पर जोर देता की एक शर्त है। हालत बढ़ नहीं रहा है। के रूप में बहुत जल्दी त्वचा सेल बनाता है, तराजू कि परिणाम के रूप में दिखाई देते हैं और गुच्छे भी सूखी। सोरायसिस आमतौर पर घुटने, कोहनी, खोपड़ी पर फैला हुआ है।

बलगम (जिसे कफ के रूप में भी जाना जाता है), ज़ुकाम और अन्य ऊपरी श्वसन संक्रमण का एक आम उत्पाद है। बलगम से निपटना बहुत मुश्किल हो सकता है और ऐसा लग सकता है कि यह कभी खतम नहीं होगी। अगर आप अपने गले और नाक में बन रहे बलगम से राहत पाना चाहते हैं, तो उपचार के इन तरीकों में से कुछ की कोशिश करें।

एप्पल साइडर विनेगर का प्रयोग करें: एप्पल साइडर विनेगर, आपकी त्वचा के PH को संभालकर समय के साथ इसे सुधारते हुए लाल रंग के दाग को कम करता है | पानी ओर सिरके को आधा- आधा मिलाकर रुई से प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं, जब तक कि दाग साफ़ न हो जाए |

–> अगर आपके घर में बर्फ का एक टुकड़ा भी मौजूद है तो समझिए पिंपल रफूचक्कर हो गया क्योंकि असल में बर्फ पिंपल की लालिमा को कम करती है और उसके इर्द – गिर्द जमा गंदगी और तेल को निकाल देती है | आप को केवल इतना करना है कि एक कपड़े में बर्फ के टुकड़े को लपेटकर उसे कुछ सेकेण्ड के लिए त्वचा पर फेरना है |

यदि आप अक्सर बीमार पड़ जाते हैं, तो इसका मतलब है कि आपका इम्युनिटी कमजोर है। आप इस हर्बल काढ़े की मदद से इसे मजबूत कर सकते हैं। इस काढ़े में कई आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का मिश्रण है। ये काढ़ा वात और कफ को शांत करता है, पाचन को उत्तेजित करता है, प्रतिरक्षा में वृद्धि करता है।

कमर दर्द के लिए व्यायाम भी करना चाहिए। सैर करना, तैरना या साइकिल चलाना सुरक्षित व्यायाम हैं। तैराकी जहां वजन तो कम करती है, वहीं यह कमर के लिए भी लाभकारी है। आपको बता दें कि साइकिल चलाते समय कमर सीधी रखनी चाहिए। व्यायाम करने से मांसपेशियों को ताकत मिलेगी तथा वजन भी नहीं बढ़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *