“आप मुँहासे से छुटकारा कैसे प्राप्त करते हैं _भौहें के बीच मुँहासे से छुटकारा”

मुंह के अल्‍सर में दर्द होने पर यह आराम देता है। 1 चम्‍मच नारियल दूध में थोड़ा सा शहद मिक्‍स कर के प्रभावित स्‍थान पर मालिश करें। इसे दिन में 2 या 3 बार करें। आप चाहें तो इस घो से अपने मुंह को धो भी सकते हैं।

बेबी ऑयल में किसी तरह के केमिक्ल्स नहीं होते और डेंड्रफ को कम करने में मदद करता है। इसलिए रात को सोने से पहले बेबी ऑयल लगा कर बालों को तौलिये से बांध लें और सुबह उठ कर अच्छे एंटी-डेंड्रफ शैम्पू से बालों को साफ करें।

दातों के नुकसान से बचें: हर 6 महीने में दाँतों की सफाई कराएं (अगर ज्यादा महंगा हो तो काम से काम साल में एक बार)। यह दाँतों में सख्त पत्थर या टार्टर (कठोर दंत पट्टिका का एक रूप है) और अन्य खनिजों के संचय को रोकने में मदद करता हैं । समय के साथ दाँतों और मसूड़ों के बीच के इस जमाव के कारण दाँत ढीले और खराब होने लगते हैं।

नीम एक आयुर्वेदिक दवाई है जिसका उपयोग आप त्वचा की देखभाल के लिए कर सकते है। नीम का उपयोग त्वचा को साफ करने में मदद करता है। नीम पिम्पल, धब्बे और किसी भी प्रकार के स्किन इन्फेक्शन का इलाज कर सकता है। इसका इस्तेमाल भी आसान है जैसे नीम के पत्तों का पेस्ट बना लें और उसे 20 मिनट तक अपने चहरे पर लगा कर रखें। फिर इसे हल्के गर्म पानी से धो लें।

तला हुआ खाना न खाएँ: बहुत ज़्यादा चिकना तला हुआ खाना आपके शरीर को बलगम तोड़ने में दिक्कत देता है जिससे आपका बलगम को सहने का समय बढ़ जाता है। इससे बचने के लिए कुछ भी तला हुआ या बहुत सारे तेल में बना हुआ न खाएँ।

मुंह में बदबू आने का सबसे कारण है खराब पाचन तंत्र। जब किसी का पाचन ठीक नहीं होता है तो उसके मुंह से बदबू आती है। इसलिए खाना खाने के बाद सौंफ को अच्छी तरह चबाएं। इससे पाचन तो सही रहेगा ही साथ ही सांसों और मुंह से भी खुशबू आएगी।

योग और आयुर्वेदिक उत्पादों का इस्तेमाल करने से आपकी जीवन शैली में कई बदलाव आते हैं। इसके लिए आप शराब का सेवन करना बंद करें। मेडिटेशन करें इससे तनाव दूर होता है। अगर आप हमेशा अच्छे आकार में रहना चाहती हैं तो इन आसनों को रोजाना करें।

HealthBeautyTips.co.in पर उपलब्ध सभी जानकारी हमारे लेखक के ज्ञान अनुभव तथा स्वास्थ्य क्षेत्र से सम्बंधित अन्य विशेषज्ञों की राय तथा उनके द्वारा लिखे गए विभिन्न लेखो पर गहन रिसर्च के माध्यम से होती है, फिर भी पाठकों से हमारा निवेदन है कि किसी भी जानकारी को व्यावहारिक रूप में आजमाने से पहले अपने चिकित्सक या सम्बंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ से राय अवश्य ले। क्योकि व्यक्ति विशेष की स्वास्थ्य परिस्थिति अलग-अलग होती है |

मुल्तानी मिट्टी के बराबर, चंदन पाउडर और गुलाब जल के अनुपात को मिक्स करें। आप पेस्ट में एक बेहतर स्थिरता लाने के लिए और गुलाब जल को मिला सकते हैं। अपने चेहरे पर यह गीली मिट्टी पैक लगाएं। सूख जाने के बाद इसको धो लें। सप्ताह में एक बार इस प्रक्रिया को दोहराएं।

एक बलगम निकालने वाली दवाई लें: यह ऐसी दवाईयाँ होती हैं जो आपके गले और नाक की बलगम को तोड़ती हैं और आसानी से इसे खाँसकर अपने शरीर से निकालने में आपकी मदद करती हैं। इनमें से बहुत सारी स्थानीय दवा की दुकानों पर ओवर-द-काउंटर उपलब्ध होती हैं, जबकि कुछ को डॉक्टर लिखकर देते हैं। खुराक निर्देशों का पालन करें और बलगम की वजह से हो रहे जमाव से आराम पाने के लिए दवाई को रोज़ लें।[३]

चेहरे के काले दाग धब्बे, प्याज मे क्रत्रिम प्रतिरोधक गुण होते है जो की मुहसो के दाग धब्बे दूर करने मे आपकी मदद करेगे। तो शांतीपूवर्क इस विधि का उपयोग करे। प्याज ले और उसका रस निकल कर चेहरे के संक्रमित स्थान पर लगाए और कुछ मिनिट तक रहने दे फिर साधारण पानी से धो दे।

कोई फर्क नहीं पड़ता कि कारण क्या है, लगभग हर किसी के लिए चिंताओं का कारण हमेशा चिंतन होता है हालांकि, यदि आप मुँहासे से ग्रस्त हैं तो त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श करना एक अच्छा विचार है, लेकिन आप इन उपायों से छुटकारा पाने के लिए इन घरेलू उपचारों की कोशिश कर सकते हैं:

भारतीय घर आम तौर पर मसालों और जड़ी-बूटियों से भरे होते हैं जो रोजाना खाना पकाने में इस्तेमाल होते हैं। लेकिन आप इन मसालों और जड़ी-बूटियों को देसी काढ़े बनाने के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं जो न केवल रोगों का इलाज करते हैं बल्कि समग्र स्वास्थ्य में सुधार करते हैं। काढ़ा एक पेय है जिसमें जड़ी-बूटियों और मसालों को पानी में आम तौर पर लंबे समय के लिए उबाला जाता है। जड़ी बूटियों का चुनाव आप अपनी बीमारी के अनुसार कर सकते हैं। स्वाद भी उसी के अनुसार भिन्न होता है। एक बार जब काढ़ा तैयार हो जाता है तो आप दिन में कई बार काढ़े का सेवन कर सकते हैं। आप इसे स्टोर भी कर सकते हैं और फिर इसे पीने से पहले गर्म कर सकते हैं। यहां पांच ऐसे आयुर्वेदिक काढ़े बताये गए हैं जिनका आपको नीचे दी गई बीमारियों में इस्तेमाल करना चाहिए।

अध्ययन में, दालचीनी ने गठिया दर्द से जुड़े साइटोकिन्स (cytokines) को कम करने के लिए सकरात्मक प्रभाव दिखाए हैं। मरीजों को सुबह-शाम शहद के एक चम्मच के साथ दालचीनी पाउडर का आधा चम्मच मिलाकर खाने से एक हफ्ते के बाद गठिया के दर्द में काफी राहत मिली और वे एक महीने के भीतर दर्द के बिना चल-फिर भी पा रहे थे।

News Track is a leading provider of news, information and entertainment across broadcast television, mobile platforms, digital media and Print media serving consumers and advertisers in strong local markets, primarily in the Madhya Pradesh & Chhattisgarh states. The company’s operations include India’s First ON WHEEL NEWS CHANNEL, News Paper, Event Management, and Marketing and their associated digital and mobile media services.

क्या चेहरे के दाग धब्बे, मुँहासे के निशान और त्वचा रंग भी, मुहासे होने का कारण आपको शर्मिंदा कर रहा है किसी समूह का सदस्य बनने से!! क्या आप सौंदर्य प्रसाधन का उपयोग करते करते तक गए है! तो एक नज़र डालिए घर मे बने हुए मिश्रण पर जो सारे दाग धब्बे निकाल देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *