“आप मुँहासे से छुटकारा कैसे प्राप्त करते हैं मुँहासे से छुटकारा पाने में क्या मदद मिल सकती है”

1 –  हरे खीरे को कद्दूकस कर के उसके रस को एक बाउल में निकाल ले , और इस रस को अपने चेहरे पर लगभग एक घंटे तक लगा कर रखे फिर साफ पानी से चेहरे को धो ले इससे पिम्पल्स न केवल साफ होगा बल्कि पिम्पल्स होना भी कम हो जायेगा.

नीम भी कैविटी के इलाज के लिए एक अन्‍य लोकप्रिय उपाय है। इसकी एंटी-बैक्‍टीरियल गुण बैक्‍ट‍ीरिया के कारण होने वाली कैविटी को दूर करने में मदद करता है। इसके अलावा यह दांतों और मसूड़ों को स्‍वस्‍थ और मजबूत बनाने में भी मदद करता है। दांतों और मसूड़ों पर नीम के पत्तों के रस रगड़ें, कुछ मिनट के लिए छोड़ दें और फिर गुनगुने पानी से कुल्ला कर लें। इस उपाय को दिन में एक या दो बार करें। इसके अलावा आप नीम की स्टिक का इस्‍तेमाल दांतों में ब्रश करने के लिए भी कर सकते हैं।

सर मेने भी बहुत क्रीम उपयोग करके देखि पर कुछ फर्क नही पडा है और मैने डॉक्टर से इलाज भी करवाया परन्तु जब तक इलाज चलता तब तक थोडे कम हो जाते है पिम्पल फिर इलाज बंद होने के बाद वापस शुरू हो जाते है। मैं पिछले 3 साल से परेशान हु पिम्पल से बहुत बार इलाज भी करवाया परन्तु कुछ फर्क नही पडा।अब मुझे क्या करना की मैं पिम्पल से छुटकारा पा सकु

सेब मृत त्वचा को हटाने का काम करता है। साथ ही उसमें एंटीसेप्टिक, त्वचा में कसाव लाने वाले और मुलायम बनाने के गुण भी होते हैं, जो त्वचा का तेल कम करने के लिए उसे एक बेहतरीन घरेलू उपाय बनाते हैं। सेब में मौजूद मैलिक एसिड (Malic acid), मृत त्वचा कोशिकाओं और त्वचा की सतह से अतिरिक्त तेल को अवशोषित करने में मदद करता है। (और पढ़ें – सेब के फायदे)

भारतीय घर आम तौर पर मसालों और जड़ी-बूटियों से भरे होते हैं जो रोजाना खाना पकाने में इस्तेमाल होते हैं। लेकिन आप इन मसालों और जड़ी-बूटियों को देसी काढ़े बनाने के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं जो न केवल रोगों का इलाज करते हैं बल्कि समग्र स्वास्थ्य में सुधार करते हैं। काढ़ा एक पेय है जिसमें जड़ी-बूटियों और मसालों को पानी में आम तौर पर लंबे समय के लिए उबाला जाता है। जड़ी बूटियों का चुनाव आप अपनी बीमारी के अनुसार कर सकते हैं। स्वाद भी उसी के अनुसार भिन्न होता है। एक बार जब काढ़ा तैयार हो जाता है तो आप दिन में कई बार काढ़े का सेवन कर सकते हैं। आप इसे स्टोर भी कर सकते हैं और फिर इसे पीने से पहले गर्म कर सकते हैं। यहां पांच ऐसे आयुर्वेदिक काढ़े बताये गए हैं जिनका आपको नीचे दी गई बीमारियों में इस्तेमाल करना चाहिए।

Muje kafi time se pimple aa rahe hai aur maine sb try kr liya hai bt kuch farak nahi ho raha hai pahele too muje pime normal hote the bt ab jabhi pimple aate hai too vo jagh pe muje sujan aur bahut hi pain hota hai jiski vajh seuje full day sir dukhta hai pls muje iska reason bataye aur kya main isle ilaj ke liye homeopathy ka treatment lu ki ayuervedic

अधिक और कम वसा वाला पौष्टिक भोजन भी सेल्युलाइट को कम करने में मदद कर सकता है। प्रोटीन युक्त भोज्य पदार्थ सेल्युलाइट की मात्रा को घटाते हैं। नियमित रूप से एक्‍सरसाइज करने से फैट जलता है और सेल्‍युलाइट में कमी आती है। इसके अलावा एक अच्छी मात्रा में पानी पीने और एक्‍सरसाइज के दौरान पसीना आने से शरीर के विषाक्‍त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं जिससे त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है।

यहां तक ​​कि यहां तक ​​कि जब तक आप मुँहासे से दूर रखने के लिए अपनी पूरी कोशिश करते हैं, कभी-कभी आप मुँहासे के साथ उभरने लगते हैं सौभाग्य से, एक दाना बंद करने के लिए बहुत सारे तरीके हैं सबसे आसान विकल्प में ग्लोलिक एसिड या बैंजोल पेरोक्साइड वाले सामयिक जवाब हैं। यदि आप एक हर्बल तकनीक का चयन करते हैं, तो आप चाय के पेड़ के तेल का जवाब पढ़ सकते हैं या बर्फ का इस्तेमाल कर सकते हैं। एक समय में एक उपचार की कोशिश करें, और अपने छिलके और त्वचा को चौबीस घंटे छूट दें, इससे पहले कि आप कुछ नया प्रयास करें ..

डॉक्टरी पर्चे के बगैर, त्वचा के धब्बों को कम करने वाली क्रीम का उपयोग करें: इन क्रीम में कोजिक एसिड, अर्बुटिन, मलबरी (mulberry) का रस, लीकोरिस (licorice) का रस और विटामिन सी पाए जाते हैं | इससे त्वचा को बिना जलन या नुकसान पहुंचाए, दाग, धब्बे फीके पड़ जाते है |[४]

एंटी बैक्‍टीरियल के साथ-साथ एंटीबायोटिग गुणों से समृद्ध होने के कारण, लहसुन दांतों के टूटने और कैविटी की समस्‍या को दूर करने में मदद करता है। यह दर्द से राहत देने और स्‍वस्‍थ मसूड़ों और दांतों के लिए भी अच्‍छा होता है। 3 से 4 लहसुन की कली को कुचलकर और 1/4 चम्‍मच सेंधा नमक मिलाकर पेस्ट बना लें। फिर इसे संक्रमित दांत पर लगाकर 10 के लिए छोड़ दें। कैविटी को कम करने के लिए इस उपाय को कुछ दिनों के लिए दिन में दो बार करें।  

यह उनमे से किसी के भी साथ हो सकता हैं जो लोग व्रत रखते हैं, चाहे वो धार्मिक कारणों के लिए, या जो खाने में रूचि नहीं लेते। यदि आप खाने में रूचि नहीं लेते हैं तो मुँह से दुर्गंध ही एक कारण हैं खुद को भूखा न रखने का।

कई व्यक्तियों को देखे तो चेहरा पूरा पिम्पल्स और एक्ने से भरा हुआ होता है| उनको ख़ास सावधानी रखनी चाहिए की पिम्पल्स को ऊँगली या नाखून से न दबाये और न ही छेड़े| सवेरे और रात को ऊपर बताए गए नुस्खे, और ख़ास कर के भाप का प्रयोग करे|

homeveda, ayurveda, home remedy, home remedies, natural remedies, natural cure, home cure symptoms, medicine, health, bad breath, bad breath causes, , bad breath disease, bad breath cures, halitosis causes, how to get rid of bad breath, rid, remedies, remedy, cure, cures, causes, cause, how, to, what, how to cure bad breath, home Stuart Edge , top video, must watch, video about bed breath, multi rose life, short films

ऑइली त्वचा से पूरी तरह से छुटकारा पाना मुश्किल हो सकता है, लेकिन आप इस सामान्य समस्या को हल करने के लिए कई चीजें कर सकते हैं। महंगे और केमिकल युक्त उत्पादों का उपयोग करने की कोई आवश्यकता नहीं है। बहुत से लोगों ने घरेलू उपायों को इस समस्या के लिए मेहतर और प्रभावी पाया है। 

    संतरे के छिलके में सिट्रिक एसिड (citric acid) और विटामिन सी (vitamin c) भरपूर मात्रा में पायी जाती है। संतरे के छिलके को आप दाने (Pimple) एवं मुँहासे (Acne) से छुटकारा पाने के लिए इस्‍तेमाल कर सकते हैं। आप संतरा का रस का भी इस्तेमाल कर सकते हैं, हालांकि संतरे का छिलका मुंहासों को दूर करने में ज्‍यादा कारगर साबित होता है। संतरे के छिलकों को धूप में सुखा ले, पूरी तरह सूखने के बाद पाउडर तैयार कर के डब्बे में रख लें। पाउडर को पानी में अच्छी तरह मिलाकर पेस्‍ट तैयार कर लें। इस पेस्‍ट को दाने (Pimple) एवं मुँहासे (Acne) पर लगाएं और इसको अच्छी तरह सूखने दें। इसके बाद अपने चेहरे को हल्का गुनगुने पानी से धो लें इससे आपको दाने (Pimple) एवं मुँहासे (Acne) से जल्द ही छुटकारा मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *