“मुँहासे तेजी से इलाज करने के लिए कैसे -शीर्ष मुँहासे उत्पादों”

विभिन्न छालरोग उपचार के विकल्प और कभी-कभी उनमें से प्रत्येक के लिए अलग-अलग विशेषताओं के साथ विभिन्न प्रकार के psoriasis के हैं। एक नियम के रूप में, एक व्यक्ति सोरायसिस के कुछ प्रकार है। जब एक तरह स्पष्ट है, अलग रूप पैदा कर सकते हैं:

मोटापे से परेशान लोग वजन घटाने के लिए व्ययाम, योगा, खाने पर कंट्रोल क्या कुछ करते हैं। कुछ लोग जिम जा कर घंटो एक्सरसाइज करके पसीना बहाते हैं। कई बार ज्यादा देर जिम करने से कई तरह की शरीरिक प्रॉब्लम भी शुरू हो जाती है। ऐसे में वजन घटाने के लिए आप एक्यूप्रेशर तकनीक को भी अपना सकते हैं। यह एक ऐसी तकनीक है जिसमें शरीर के बिंदुओं को दबाना होता हैं। जिससे आपको भूख कम लगेगी और आपके वजन पर भी कंट्रोल होगा। मानव शरीर पर ऐसे बिंदु होते है जिसे दबाने से कई रोगों से छुटकारा पाया जा सकता है और मोटापे को भी कम किया जा सकता है।

सांस की बदबू होने के तीन रासायनिक कारण है; डाइमिथाइल सल्फाइड, हाइड्रोजन सल्फाइड, और मिथाइल मेरकाप्टन। जब आप जान जाए कि इनमे से क्या आपकी सांस में मौजूद है, तो आप आसानी से जान जाएंगे कि आपको अपनी सांस के लिए किस उपचार की जरूरत है।

आपको यह पता होगा की शराब और तम्बाकू हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही नुकसानदायक है. ये चीजे हमारे चेहरे के लिए भी सही नहीं होते. युवावस्था आने पर कई लड़के दूसरो की देखा – देखी में सिगरेट व तम्बाकू खाना लेना शुरू कर देता है. फलस्वरूप उनके face में कील – मुंहासे होने लगते है. आपको इन चीजो से बचना चाहिए.

हालत पूरी तरह से इलाज करने के लिए कोई सोरायसिस उपचार है। हालांकि, छालरोग उपचार आम तौर पर प्रभावी है और हालत समाशोधन या सोरायसिस के धब्बे को कम करने के द्वारा नियंत्रित होगा। सोरायसिस में छूट जाओ और रोग के कोई लक्षण दिखा सकते हैं। चल रहे अनुसंधान सक्रिय रूप से सीखने कैसे सोरायसिस और खोज बेहतर छालरोग उपचार और एक संभव इलाज से भविष्य में छुटकारा पाने के लिए पर प्रगति कर रहा है।

दाग धब्बों को खुरचने से बचें: खुरचना आपकी त्वचा को ठीक करने की बजाए और ज्यादा खराब कर सकती है | आपके हाथों के बैक्टीरिया खुरचे हुए मुँहासों में मिलकर, आपकी त्वचा को संक्रमित करके सूजा सकती है | इसलिए, हमेशा खुरचने से बचें |

मुंह से निकलने वाली बदबू या सांसों की दुर्गन्ध आज के समय की सबसे ज्यादा जटिल समस्या है जो हर किसी के सामने शर्मिदा करने का अहसास कराती है। आज के समय में यह दिक्कत कई लोगों में पाई जाती है। इस समस्या से परेशान लोग अपने सहपाठी, पड़ोसी, सहकर्मी या अन्‍य किसी के साथ बात करने या नजदीक बैठने से भी कतराने लगते हैं। मुंह की दुर्गन्ध या सांस की बदबू के आने का सबसे बड़ा कारण मुंह में पाये जाने वाले बैक्टीरिया होते हैं जो ‘सल्फर कम्पाउंड’ बाहर निकालते हैं। जिसकी वजह से सांस की बदबू होती है।

Rat ko sone se pahle kacche dudh ke sath jayfal ko ghise or isk alep tayaar kar le, or is lep ko chehre par laga kar so jaye. Subh chehra saaf pani se dho dey. Kuch din aisa lgatar karne se chehre par hone wale muhaso se chutkara milta hai.

परीक्षण करें, अगर आपको सांस की दुर्गंध की समस्या है: यह बताना मुश्किल है कि कब आपकी सांस दूसरो को बदबूदार लगें। अगर आपकी सांस बदबूदार है, तो इन परीक्षण का इस्तेमाल करके, आप अपने मुंह में मौजूद सल्फर नमक को किसी और चीज़ में मिलाकर, सूंघ सकते हैं और स्वयं ही अपने सांस की दुर्गंध को पहचान सकते हैं।[१५]

पुलिस ने बताया कि जब मामले की जानकारी हुई तो केस दर्ज कर सुरेश को पकड़ने की तैयारी की गई। उसमान ने बताया कि उसकी और मारिया की 2005 में शादी हुई थी और वह 2012 में आपसी सहमति से अलग हो गए थे। सुरेश की मारिया से मुलाकात फेसबुक के जरिए हुई थी और दोनों में जल्द ही प्यार हो गया और दोनों साथ में रहने लगे। इस बीच सुरेश अपने घर गया जहां उसके परिवार ने उसकी शादी लता से करा दी।

Yoghurt also works as an inflammation reducing agent and reduces the itchiness in the affected region. It can be applied directly on the pimple. It will reduce the temperature of that area and stop the growth of the bacteria in that region, thus helping to kill the pimple.

जब भी आप अपने डेस्क तथा कंप्यूटर पर लम्बे समय तक बैठते हैं तो बीच-बीच में खड़े हों और एक ब्रिस्क वॉक (brisk walk) लें। यहाँ तक कि अपनी डेस्क पर ही कूल्हों या पैरों की कसरत करें जिससे खून के प्रवाह में मदद मिलेगी।

दखल, जो आंतरिक समस्याओं के कारण दिखाई दिया,व्यापक रूप से इलाज किया जाता है ऐसे मामलों में, यहां तक ​​कि सबसे महंगी दवाओं के साथ उपचार का कोई सकारात्मक परिणाम नहीं होगा यदि आप एक साथ पूरे जीव का इलाज नहीं करते हैं। इसलिए, इलाज करने और चेहरे पर मुँहासे से छुटकारा पाने से पहले, समस्या का सही कारण स्थापित करने के लिए इतना महत्वपूर्ण है। पहले से ही परीक्षा के परिणाम को ध्यान में रखते हुए, सौंदर्य प्रसाधन ने अतिरिक्त त्वचा देखभाल उत्पादों को नियुक्त किया है।

एलोविरा का प्रयोग करें: एलोविरा का रस एक ऐसा प्राकृतिक पदार्थ है कई प्रकार कि बिमारियों, चोट लगना, जल जाना, या मुँहासों को दूर करता है | यह त्वचा को फिर से नया बनाकर नमी प्रदान करता है | एलोविरा को किसी भी दुकान में पाया जा सकता है, लेकिन एलोविरा के पत्तियों का रस सब से ज्यादा उपयोगी माना गया है | इसके जैल को धब्बों पर लगाकर छोड़ दें | धोने की भी जरुरत नहीं है |

लेकिन कॉलेज के समय में जो पिम्पल मेरे चेहरे पर आये उनको छुड़ाने में मुझे 8 महीने से ज्यादा लग गये. मेरे चेहरे में पहले एक फुंसी आई फिर दूसरी और देखते ही देखते ही यह संख्या रोजाना लगातार बढती जा रही थी. जो भी पिम्पल पुराना हो जाता है वह चेहरे पर मुंहासे में बदल जाता. जो मेरे चेहरे पर एक काले दाग की तरह दिखाई देता था.

सर मेने भी बहुत क्रीम उपयोग करके देखि पर कुछ फर्क नही पडा है और मैने डॉक्टर से इलाज भी करवाया परन्तु जब तक इलाज चलता तब तक थोडे कम हो जाते है पिम्पल फिर इलाज बंद होने के बाद वापस शुरू हो जाते है। मैं पिछले 3 साल से परेशान हु पिम्पल से बहुत बार इलाज भी करवाया परन्तु कुछ फर्क नही पडा।अब मुझे क्या करना की मैं पिम्पल से छुटकारा पा सकु

किशोरावस्था एक ऐसी अवस्था है जिसमे शरीर का विकास (growth) पूरी तरह से होने लग जाता है जिससे शरीर के हारमोंस मे बदलाव आते रहते है इसी वजह से चेहरे पर कील, मुहांसे, दाने जैसी समस्या शुरु होने लग जाती है. तथा फुंसी और मुहासों का एक कारण skin पर मौजूद तैलीय परत को भी माना जाता है .जिससे रुखी त्वचा की ऊपर आने की प्रकिया रुक जाती है और पिम्प्लेस हो जाते है

इसके अलावा और भी कई कारण हैं जो इस समस्या को जन्म देने का काम करते हैं। समय पर दांत को साफ ना करना, पाचन क्रिया का ठीक ना होना और धूम्रपान का सेवन करना यही इसके सबसे बड़े कारण बनते हैं। आज हम आपको इस समस्या से छुटकारा पाने के कुछ घरेलू उपायों के बारे में बता रहे हैं। जिससे आप अपनी परेशानी से छुटकारा पा सकती हैं। जानें वो घरेलू उपाय…

पपीता विरोधी ऑक्सीडेंट्स और एंजाइमों में समृद्ध है, जो कि बैंपिरिया पर दाना पैदा करने के लिए काम करते हैं। प्रभावित क्षेत्र पर कच्ची पपीता के एक ताज़ा तैयार पेस्ट का उपयोग करें। इसे 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें और कुल्ला बंद करें।

बेकिंग सोड़ा से साफ़ करें: बेकिंग सोड़ा के इस्तेमाल से त्वचा के दाग धब्बों को कम किया जा सकता है | 1 छोटा चमच्च बेकिंग सोड़ा को 1 छोटे चमच्च पानी में मिलाकर घोल तैयार करें | इसे अपने चेहरे पर गोलाकार में रगड़ते हुए 2 मिनट तक लगाएं | गुनगुने पानी से चेहरे को धोलें और अच्छे से पोंछ लें | “यह एक जाना माना नुस्खा है, लेकिन इसे पहले थोड़े समय के लिए प्रयोग करें और फिर धीरे धीरे समय बढ़ाएं। बेकिंग सोड़ा में 7.0 PH होता है जो त्वचा के PH से बहुत ज्यादा है | अगर PH की मात्रा को बढ़ा दी जाएगी, तो लम्बे समय तक मुँहासे नहीं जाएंगे और अधिक संक्रमण और सूजन का भी डर रहेगा |”[२]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *