“टूथपेस्ट का उपयोग करके मुँहासे से छुटकारा पाएं मुँहासे से मुँहासे उपचार”

उसे बाहर निकालें: ऐसा करने में काफी शोर मच सकता है और यह ग्रॉस (gross) व शर्मनाक भी हो सकता है, लेकिन अपने शरीर से बलगम बाहर निकालना इससे छुटकारा पाने के लिए सबसे अच्छा तरीका है। जब भी आपको बलगम को खाँसने या अपनी नाक को ब्लो (blow) करने की इच्छा हो, तब उसे नजरअंदाज न करें। बलगम निगलने से वह आपके शरीर में वापस घुस सकती है और भरी हुई या बहती नाक को अंदर रखना असुविधाजनक है। एक टिशु-बॉक्स को पास रखना और बलगम को निकालना सबसे अच्छा है।

A) पंप या मुँहासे का कारण बनता है जब त्वचा ग्रंथियों के उत्पादन सेबम (त्वचा के तेल) के छिद्र भरा हो जाता है और इस प्रकार सेबम बच नहीं सकते वे हार्मोनल परिवर्तन, तनाव, पसीना, अत्यधिक नमी और स्टेरॉयड के उपयोग सहित कई कारकों से शुरू हो रहे हैं।

लेकिन कॉलेज के समय में जो पिम्पल मेरे चेहरे पर आये उनको छुड़ाने में मुझे 8 महीने से ज्यादा लग गये. मेरे चेहरे में पहले एक फुंसी आई फिर दूसरी और देखते ही देखते ही यह संख्या रोजाना लगातार बढती जा रही थी. जो भी पिम्पल पुराना हो जाता है वह चेहरे पर मुंहासे में बदल जाता. जो मेरे चेहरे पर एक काले दाग की तरह दिखाई देता था.

दातों के नुकसान से बचें: हर 6 महीने में दाँतों की सफाई कराएं (अगर ज्यादा महंगा हो तो काम से काम साल में एक बार)। यह दाँतों में सख्त पत्थर या टार्टर (कठोर दंत पट्टिका का एक रूप है) और अन्य खनिजों के संचय को रोकने में मदद करता हैं । समय के साथ दाँतों और मसूड़ों के बीच के इस जमाव के कारण दाँत ढीले और खराब होने लगते हैं।

Mere face par pimples se bahut sare khddhe ho gaye hai jiske karn face bahut bhada dikhai de raha please khddhe bharne ka ghrelu ilaj ya koi aauderdik cream bataye our winter men fat kar kala ho raha hai please iska bhi ilaj bataye

Bahut acche topic par post likhi hai aapne! aajkal pimples ki bahut jyada problem young generation me ho rahi hai….khubsurat banne ki chahat sabhi ko hoti hai…aapne jo upay bataye hain veh bahut kaam ke hain….dhanyabad!

आपको यह पता होगा की शराब और तम्बाकू हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही नुकसानदायक है. ये चीजे हमारे चेहरे के लिए भी सही नहीं होते. युवावस्था आने पर कई लड़के दूसरो की देखा – देखी में सिगरेट व तम्बाकू खाना लेना शुरू कर देता है. फलस्वरूप उनके face में कील – मुंहासे होने लगते है. आपको इन चीजो से बचना चाहिए.

height badhane ke liye aap yah padhe : https://www.nayichetana.com/2015/05/how-to-increase-height-in-hindi-height-kaise-badhaye-%E0%A4%B2%E0%A4%AE%E0%A5%8D%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%88-%E0%A4%AC%E0%A5%9D%E0%A4%BE%E0%A4%AF%E0%A5%87.html

रोजाना सुबह खाली पेट दो से तीन लहसुन की कलियाँ खाएं। अगर खाने में परेशानी हो तो आप लहसुन के तेल से मसाज भी ले सकती हैं। अगर ये तेल आपको बाजार में मिलना मुश्किल हो तो घर पर मसाज ऑयल बनाएं। उसके लिए एक चम्मच नारियल तेल, एक चम्मच सरसों का तेल, एक चम्मच तिल का तेल लें और इन तीनों में 8 से 9 कलियाँ लहसुन की डालकर हल्का गुनगुना कर लें। फिर इस तेल से मसाज करें।

News Track is a leading provider of news, information and entertainment across broadcast television, mobile platforms, digital media and Print media serving consumers and advertisers in strong local markets, primarily in the Madhya Pradesh & Chhattisgarh states. The company’s operations include India’s First ON WHEEL NEWS CHANNEL, News Paper, Event Management, and Marketing and their associated digital and mobile media services.

सांस की दुर्गंध, या दुर्गंधित श्वास, कभी न कभी इस समस्या का सामना सबको करना पड़ता है। सांस की दुर्गंध कई कारणों से हो सकती है, जैसे कि मुंह का सूखापन; आहार में प्रोटीन, शर्करा, या अम्ल की अधिक मात्रा; और धूम्रपान। कोई लम्बी बीमारी और दांत की सड़न भी सांस में दुर्गंध के कारण हो सकते हैं। अच्छी ओरल हेल्थ आदतों को अपनाने से और अपने आहार एवं जीवन शैली को बदलने से आप दुर्गंधयुक्त सांस से छुटकारा पा सकते हैं।

latest fashion trends Cricket bollywood latest news entertainment news entertainment bollywood_actress lifestyle news lifestyle_news Entertainment_news fashion fashion_traind beauty tips health news fashion news lifestyle bollywood news bollywood news in hindi love latest

बेकिंग सोडा का इस्तेमाल करें: दांतो को बेकिंग सोडा से हफ्ते में एक बार ब्रश करने से बैक्टीरिया निष्प्रभावित हो जाते हैं, जो मुंह में दुर्गंध का कारण है। अपने ब्रश के ब्रिसल पर हल्का बेकिंग सोडा लगाएं, और हमेशा की तरह ही ब्रश करें।[३]

वैज्ञानिकों का मानना कि सामान्य जनसंख्या का कम से कम 10 प्रतिशत में से एक या अधिक जीन है कि छालरोग के लिए एक गड़बड़ी पैदा की इनहेरिट होती। हालाँकि, केवल 2 प्रतिशत से 3 प्रतिशत जनसंख्या का रोग विकसित करता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि छालरोग विकास करने के लिए एक व्यक्ति के लिए जीन है कि छालरोग कारण और विशिष्ट बाह्य कारकों “ट्रिगर के रूप में.” जाना जाता करने के लिए उजागर किया का एक संयोजन व्यक्तिगत होना चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *