“मुँहासे तेजी से इलाज करने के लिए कैसे मुँहासे को खत्म करने”

A) पंप या मुँहासे का कारण बनता है जब त्वचा ग्रंथियों के उत्पादन सेबम (त्वचा के तेल) के छिद्र भरा हो जाता है और इस प्रकार सेबम बच नहीं सकते वे हार्मोनल परिवर्तन, तनाव, पसीना, अत्यधिक नमी और स्टेरॉयड के उपयोग सहित कई कारकों से शुरू हो रहे हैं।

त्वचा के चकत्ते का इलाज – (Freckles)- त्वचा पर जहाँ कहीं भी चकते हों, उन पर नींबू का टुकड़ा मसले। नींबू में फिटकरी का पाउडर भरकर धीरे धीरे लगाये। इससे चकते हल्के होते हैं और त्वचा में निखार आ जाता है। इसके अलावा हाथ धोकर नींबू का रस से हाथ नरम हो जाते हैं और नाखून सुंदर हो जाते है|

दखल, जो आंतरिक समस्याओं के कारण दिखाई दिया,व्यापक रूप से इलाज किया जाता है ऐसे मामलों में, यहां तक ​​कि सबसे महंगी दवाओं के साथ उपचार का कोई सकारात्मक परिणाम नहीं होगा यदि आप एक साथ पूरे जीव का इलाज नहीं करते हैं। इसलिए, इलाज करने और चेहरे पर मुँहासे से छुटकारा पाने से पहले, समस्या का सही कारण स्थापित करने के लिए इतना महत्वपूर्ण है। पहले से ही परीक्षा के परिणाम को ध्यान में रखते हुए, सौंदर्य प्रसाधन ने अतिरिक्त त्वचा देखभाल उत्पादों को नियुक्त किया है।

आप एक चौथाई कप सेब के सिरके में तीन चौथाई कप पानी मिला कर एक घरेलू टोनर बना सकते हैं। इस टोनर को रुई की मदद से त्वचा पर लगाएं। इसे पांच से 10 मिनट तक लगा रहने दें। फिर ठंडे पानी से धो लें। सकारात्मक परिणाम के लिए इस प्रक्रिया को सप्ताह में यह कई करें।

यदि आप चाहते है की आपकी दाढ़ी और मूछ का रंग सफेद न हो तो इसके लिए अपने रोजाना के भोजन में फल, हरि सब्जियां, दाल तथा प्रोटीन युक्त पदार्थो का सेवन करें तथा जंक फ़ूड खाना,शराब का सेवन करना छोड़ दे इसके साथ ही अपने सफेद बालों को छुपाने के लिए डाई का प्रयोग बिलकुल न करें क्योकि इनमे केमिकल मिले होते है।

मुंह की बदबू का इलाज इन हिंदी: मुँह से दुर्गन्ध आने के कारण कई बार लोगों को शर्मिंदा होना पड़ता है। जिस व्यक्ति या महिला के मुंह से बदबू आती है अक्सर लोग उनसे दूर भागते है, उनकी पीठ पीछे उनका मजाक बनाते है और उनके साथ रहना पसंद नहीं करते। सांसो की बदबू रोकने के लिए आजकल बाजार में भी कुछ ऐसी चीजें और दवा आती है जिनके प्रयोग से कुछ देर के लिए मुंह से बदबू आना रुक जाती है, पर ये सब कुछ समय के लिए ही होते है और महंगे भी होते है। आप घर पर प्रयोग होने वाली कुछ चीजों को इस्तेमाल करके मुँह की दुर्गन्ध दूर करने के उपाय कर सकते है, घर पर किये जाने वाले ये घरेलू नुस्खे सस्ते तो होते ही है और इन्हें करना भी आसान है। Treatment for permanent bad breath problem solution in hindi.

मुंह में एक छोटा सा घाव होता है जिसे हम अल्‍सर बोलते हैं। अगर यह मुंह में छाला हो जाए तो खाने-पीने में बड़ी तकलीफ हो जाती है। इसमें काफी जलन और दर्द भी महसूस होती है। वैसे तो यह बीमारी कुछ ही दिनों के लिए होती है और हफ्ते भर में ठीक भी हो जाती है।

लहसुन रक्त से विषाक्त पदार्थों की सफाई करके मुँहासों से मुक्त, और दमकती त्वचा देता है। लहसुन को छील लें और जहाँ मुँहासे हैं, वहां मल लें। या फिर, लहसुन की कलियों को पीसकर दही के साथ मिलाएं और जहाँ दाने हैं वहां लगाएं।

जड़ीबूटी और मसालों का इस्तेमाल करें: अजवाइन को कच्चा खाने से आपका मुंह और दांत साफ़ रहते हैं, और इससे आपकी सांस दुर्गंध भी दूर हो जाती है। इलायची, छिलकों के साथ या पिसी हुई खाने से आपकी सांस को ताजा रखने में मदद मिलती है। मसालेदार भोजन के बाद सौंफ को चबाएं, या इन्हें पीस कर टूथब्रश पर छिड़कर ब्रश करें।[१३]

Barf ke tukde थके आँखों को शांत करने का काम करता है | काम पर एक लंबा और थका देने वाला दिन होने के बाद, कुछ सुखदायक प्रभावों के लिए अपनी आंखों पर कुछ बर्फ के cubes रखें । यह आसान तरीका सिर्फ आपकी आंखों पर शीतलन प्रभाव नहीं देगा, बल्कि थकन आँखों को राहत भी दे सकता है । जब भी आप थके हुए है तो इस आसान सौंदर्य टिप को आज़माएं | Tips on eye care से जुडी जानकारी यहाँ पर पढ़े |

इसके अलावा और भी कई कारण हैं जो इस समस्या को जन्म देने का काम करते हैं। समय पर दांत को साफ ना करना, पाचन क्रिया का ठीक ना होना और धूम्रपान का सेवन करना यही इसके सबसे बड़े कारण बनते हैं। आज हम आपको इस समस्या से छुटकारा पाने के कुछ घरेलू उपायों के बारे में बता रहे हैं। जिससे आप अपनी परेशानी से छुटकारा पा सकती हैं। जानें वो घरेलू उपाय…

Posted in Face, Skin    Tagged acne home remedies, acne problems, dermatologist in ghaziabad, dermatologist in greater noida, home remedies, pimple problems, skin doctor in ghaziabad, skin doctor in greater noida, skin problems, skin tips skin tips    Leave a comment   

दातों के नुकसान से बचें: हर 6 महीने में दाँतों की सफाई कराएं (अगर ज्यादा महंगा हो तो काम से काम साल में एक बार)। यह दाँतों में सख्त पत्थर या टार्टर (कठोर दंत पट्टिका का एक रूप है) और अन्य खनिजों के संचय को रोकने में मदद करता हैं । समय के साथ दाँतों और मसूड़ों के बीच के इस जमाव के कारण दाँत ढीले और खराब होने लगते हैं।

शहद, त्वचा की सतह पर जमा अतिरिक्त तेल को कम करने में मदद करता है। साथ ही छिद्र और झुर्रियों को भी होने से रोकता है। शहद में मॉइस्चराइजिंग गुण होते हैं जो त्वचा को पोषण देते हैं और त्वचा को बिना ऑयली बनाये पर्याप्त रूप से मॉइस्चराइज करते हैं। इसके अलावा, शहद के प्राकृतिक एंटीसेप्टिक गुण मुँहासे पैदा करने वाली ऑयली त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं।

* लौंग का तेल : आप मुंह के छालों को ठीक करने के लिए लौंग के तेल की भी मदद ले सकते हैं। क्योंकि आपकी जीभ काफी संवेदनशील होती है, अतः इसके उपचार का तरीका काफी महत्वपूर्ण होता है। इस उपचार के लिए 4 से 5 बूँदें लौंग का तेल, आधा चम्मच जैतून का तेल, गर्म पानी और रुई की आवश्यकता होगी।

दही में ऐसे एंजाइम (enzymes) होते हैं जो किसी भी दाग धब्बे को दूर कर सकते हैं, और शहद प्राकृतिक रूप से आपकी रंगत को निखारता है। 1 चम्मच दही को 2 चम्मच शहद के साथ मिश्रित करें। इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाएं और काले धब्बों पर खासकर ध्यान केन्द्रित करें। इस पैक को 20 मिनट तक अपने चेहरे पर रहने दें और फिर इसे हाथों से रगड़कर पानी से साफ़ कर लें। अच्छे परिणामों के लिए इस उपचार का प्रयोग रोजाना करें।

If u have oily skin.. wash ur face only with water ….when oil comes on ur face.. n on pimple u can apply clindamycin phosphate 1% in a day . Or in night u should apply aziderm acid cream so that ur marks on face removes.. one tablet of vitamin c in a day.. in 10 days u see pimples gone.. marks gone . After u wash ur face with himalaya neem face wash .

कई व्यक्तियों को देखे तो चेहरा पूरा पिम्पल्स और एक्ने से भरा हुआ होता है| उनको ख़ास सावधानी रखनी चाहिए की पिम्पल्स को ऊँगली या नाखून से न दबाये और न ही छेड़े| सवेरे और रात को ऊपर बताए गए नुस्खे, और ख़ास कर के भाप का प्रयोग करे|

कई बार मुँहासे तो ठीक हो जाते हैं पर उनके दाग इतने गहरे हो जाते हैं कि वह जल्‍दी से जाने का नाम नहीं लेते हैं। इससे जल्दी छुटकारा पाने के लिए हम बाज़ार मे पाए जाने वाले रसायन युक्त उत्पादो का प्रयोग करते हैं, बिना उनके नुकसानों के बारे में सोचे। इसलिए अलग-अलग तरह की क्रीम का प्रयोग करने से अच्‍छा है कि आप इन चेहरे के दाग धब्बों को हटाने के लिए घरेलू उपाय अपनाएं।

उन मामलों में जहां चेहरे पर चकत्ते का कारण होता हैबाह्य कारकों के प्रभाव से, सौंदर्य प्रसाधन चिकित्सक, चेहरे पर मुँहासे के लिए एक उपाय का चयन करता है, जिससे त्वचा के प्रकार और विशेषताओं को ध्यान में रखता है। इसके समानांतर, त्वचा की देखभाल की रणनीति परिभाषित की जाती है, और वातावरण की नकारात्मक प्रभाव से चेहरे की त्वचा की रक्षा के लिए तैयारी भी निर्धारित की जाती है।

नींबू निचोड़ने के बाद जो फाँकें (छिलका) बचता है, उसे इकट्ठी करके सूखा लें। सूखने पर पीस लें। इसकी दो चम्मच में एक चम्मच बेसन मिलाकर पानी डालकर पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाये । आधा घण्टे बाद चेहरा धोयें। मुँहासे, झाँइयाँ, धब्बे ठीक हो जायेंगे।

आज के समय में बहुत से लड़के – लड़कियां एक बात से बहुत परेशान होते है और वह है चेहरे पर कील – मुंहासो का होना. किसी के भी चेहरे पर दाग – धब्बे अच्छे नहीं लगते और इससे एक खुबसूरत चेहरा भी बदसूरत नजर आने लग जाता है.

यदि आप अपने चेहरे पर कपूर के अंदर नींबू रस , हल्दी पाउडर , और 2,3, चम्मच बेसन मिला कर लगते है. तो इससे आपके मुह से मुहासे और झुरिया साफ हो जाती है और यदि बेसन को लस्सी या दही में मिला कर फेस पर लगाने से भी झाइयां और कील मुँहासे दूर हो जाते है.

सबसे पहले तो आप ये जाने की ये पिम्पल्स और दाने चेहरे पर क्यों निकल रहे है, क्या आपने कोई मेकअप या क्रीम लगायी जो आपकी स्किन को सूट नहीं कर रही, अगर ऐसा है तो ऐसी क्रीम फिर से प्रयोग करने से बचे ताकि पिम्पल्स की समस्या से बचा जा सके. पिम्पल्स ठीक करने के लिए घरेलू उपाय व अन्य तरीके ऊपर लेख में पढ़े.

एप्पल साइडर विनेगर का प्रयोग करें: एप्पल साइडर विनेगर, आपकी त्वचा के PH को संभालकर समय के साथ इसे सुधारते हुए लाल रंग के दाग को कम करता है | पानी ओर सिरके को आधा- आधा मिलाकर रुई से प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं, जब तक कि दाग साफ़ न हो जाए |

लौंग कैविटी के साथ-साथ किसी भी प्रकार की दांतों से जुडी समस्‍याओं के लिए रामबाण होता है। एंटी-इंफ्लेमेंटरी, एनाल्‍जेसिक और एंटी-बैक्‍ट‍ीरियल गुणों के कारण लौंग दर्द को कम करने और कैविटी को फैलने से रोकता है। समस्‍या होने पर 1/4 चम्‍मच तिल के तेल में 2 से 3 बूंदें लौंग के तेल की मिलाकर लें। इस मिश्रण को रात को सोने से पहले कॉटन बॉल में लेकर प्रभावित दांत में लगाये।   

मेरे फेस पर पिंपल बहुत हो रहे हैं और बड़ते ही जा रहे हैं स्किन भी लूज होती जा रही है यानी कि मुरझाती जा रही है मेरी आँखों के नीचे काले धबे और झुरियाँ भी पड़ती जा रही हैं मेरी हेल्प करें यह मेरी गुज़ारिश है

माइक्रोडर्माब्रेशन (microdermabrasion) या रासायनिक पील के बारे में भी विचार करें: यह प्रक्रिया रातों रात आपके दाग को ठीक नहीं करेगी, क्योंकि ये काफी कठोर होते हैं और त्वचा को ठीक होने में वक़्त लगता है | लेकिन, अगर कोई भी क्रीम आपके काम नहीं आ रही है और आपको सामान्य त्वचा चाहिए, तो आप इसे करवाने के बारे में सोच सकते हैं |

लक्षणात्मक उपचार मुंह के छालों से निपटने का प्राथमिक तरीका है। यदि उनका कारण ज्ञात हो, तो उस स्थिति के उपचार की भी अनुशंसा की जाती है। पर्याप्त मौखिक स्वच्छता भी लक्षणों से राहत देने में सहायक हो सकती है। अगर आपके मुंह के छाले 3 हफ्ते से ज्‍यादा रहें तो उसे तुरंत ही डॉक्‍टर को दिखाएं। आइये जानते हैं मुंह के छाले ठीक करने के घरेलू उपचार।

homeveda, ayurveda, home remedy, home remedies, natural remedies, natural cure, home cure symptoms, medicine, health, bad breath, bad breath causes, , bad breath disease, bad breath cures, halitosis causes, how to get rid of bad breath, rid, remedies, remedy, cure, cures, causes, cause, how, to, what, how to cure bad breath, home Stuart Edge , top video, must watch, video about bed breath, multi rose life, short films

कच्चे आलू के बारे में मुझे मेरे एक दोस्त से पता चला था. उसने मुझे बोला था की उसके भाई ने भी अपने मुंहासो पर आलू का इस्तेमाल किया था. जिससे उसके दाग – धब्बे ठीक हो गये थे. आलू हमको घर में ही मिल जाता है. आलू के छिलके मुंहासे दूर करने के लिए आलू का सबसे Best Part होता है.

दाग धब्बों को खुरचने से बचें: खुरचना आपकी त्वचा को ठीक करने की बजाए और ज्यादा खराब कर सकती है | आपके हाथों के बैक्टीरिया खुरचे हुए मुँहासों में मिलकर, आपकी त्वचा को संक्रमित करके सूजा सकती है | इसलिए, हमेशा खुरचने से बचें |

माथे पर चमड़े के नीचे और छोटे pimples पैदा कर सकते हैंबस अनुचित देखभाल के परिणामस्वरूप किसी भी मामले में आपको छोटे प्रदाहों को निचोड़ना चाहिए, जैसे कि रोगाणुओं, पड़ोसी छिद्रों में पड़ना, केवल माथे पर चिड़ियों की संख्या में वृद्धि होगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *