“मुँहासे तेज आहार से छुटकारा सबसे अच्छा मुँहासे उपचार कैसे करें”

चेहरा कितना भी खूबसूरत क्‍यों ना हो अगर उसपर एक छोटा सा भी मुहांसा हो जाए तो वह पूरे चेहरे की सुंदरता को तार तार कर देता है। फिर आप जितना भी मेकप लगाकर उसे छुपाने की कोशिश करें वह बेकार ही जाता है। इसके लिए जरुरी है क‍ि आप अपने खाने-पीने पर और त्‍वचा की साफ सफाई का पूरा ध्‍यान दें।

Psoriasis के कारण inlcude अपने प्रतिरक्षा प्रणाली, के कुछ विकार है जो सफेद रक्त कोशिकाओं संक्रमण से अपनी जीव की रक्षा के लिए जिम्मेदार हो सकता है कि अनुसंधान से पता चलता है। जब रोगी सोरायसिस से ग्रस्त है, उनकी त्वचा टी कोशिकाओं (श्वेत रक्त कोशिका) गतिविधि है, जो त्वचा कोशिकाओं के तेजी से विकास करने के लिए योगदान देता है क्योंकि सूजन है। यह त्वचा पर उठाया पैच में पता चला है।

लहसुन की कलियों को पीसकर हल्दी मिला लें और इसे ठन्डे पानी से धो लें। इसके इस्तेमाल से पिम्पल्स की समस्या दूर हो जाएगी। पिंपल्स से छुटकारा पाने के लिए जेल युक्त टूथपेस्ट को इस पर लगाकर 1 घंटे के लिए छोड़ दें। ऐसा करने से आपके पिम्पल्स एक रात में ही दूर हो जायेगे।

डेयरी उत्पाद न खाएँ: सारे डेयरी प्रोडक्टस में एक विशेष प्रोटीन, कैसिइन (casein), होता है जो ठंडा करता है और आपके शरीर में और बलगम बनाता है। अनावश्यक रूप से अधिक बलगम का निर्माण रोकने के लिए, दूध, चीज़, दही या आइसक्रीम जैसे डेयरी प्रोडक्टस न खाएँ।

पिम्पल्स का इलाज के लिए रसायनिक पदार्थ का उपयोग करने से बेहतर होगा की आप प्राकृतिक उत्पादो का उपयोग करे। घरेलू उत्पाद बहुत सस्ते होते है और इनका कोई बुरा असर भी नही पड़ता। चेहरे पर दाने के उपाय, त्वचा की देखरेख करना वो भी सुंदरता के साथ यह बहुत ज़रूरी है। कुछ घरेलू उपचार की सूची नीचे दी गई है जो काले दाग (black spots) धब्बे, मुँहासे के निशान से दूर रहने मे आपकी मदद करेगे।

लार में सोडियम, पोटैशियम, फास्फेट, कैल्शियम, प्रोटीन, ग्लूकोज जैसे तत्व होते हैं जो दांतों को मजबूत बनाते हैं। इसमें मौजूद तत्व दांतों को हानिकारक संक्रमणों से बचाते हैं जिससे दांत सड़ते नहीं। यह दांतों पर सुरक्षा कवच की तरह काम करती है।

मेडिसिन की भाषा में मुंह से दुर्गंध (Bad Breathing) की स्थिति को हैलीटोसिस कहते हैं| ये मुंह की सफाई का ठीक से ख्याल ना रखने और खान पान की गलत आदतों से पैदा होती है| सांस की बदबू का कारण अक्सर जीभ, दांतों और मसूड़ों पर जमे बैक्टीरिया के प्लाक के कारण आती है | इसीलिए जीभ को रोज साफ करना चाहिए|

अपनी त्वचा को धूप से बचाएं: सूर्य कि UV किरणे, त्वचा कि पिग्मेंट निर्माण करने वाली कोशिकाओं को उत्तेजित करती हुई आपके मुँहासों के धब्बों को ओर ज्यादा खराब कर सकती है |[१]अगर आप धूप में जा रहें हैं, तो सनस्क्रीन या चौड़ी टोपी पहने और जहाँ तक हो छाँव में चलें |

उन मामलों में जहां चेहरे पर चकत्ते का कारण होता हैबाह्य कारकों के प्रभाव से, सौंदर्य प्रसाधन चिकित्सक, चेहरे पर मुँहासे के लिए एक उपाय का चयन करता है, जिससे त्वचा के प्रकार और विशेषताओं को ध्यान में रखता है। इसके समानांतर, त्वचा की देखभाल की रणनीति परिभाषित की जाती है, और वातावरण की नकारात्मक प्रभाव से चेहरे की त्वचा की रक्षा के लिए तैयारी भी निर्धारित की जाती है।

त्वचा को लंबे समय तक खूबसूरत बनाए रखना है तो आपको उसका प्राकृतिक उपचार करने की जरूरत है।इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसे तरीको के बारे में बताने जा रहे है जिनके इस्तेमाल से आप सिर्फ कुछ दिनों में पिम्पल्स की समस्या से छुटकारा पा सकती है।

* पुदीने की पत्तियाँ : जब भी आपको अपने छालों को ठीक करना हो, तो पुदीने की पत्तियाँ भी काफी काम आती हैं। इसके लिए पुदीने की पत्तियों का पानी और शहद के साथ मिलाकर गूदा बना लें और इन्हें अच्छे से पीस लें। इसे अपनी जीभ पर अच्छे से लगाएं और जीभ को मुंह के बाहर रखने की कोशिश करें। इसे 10 मिनट तक इसी तरह रखें और फिर सादे पानी से धो लें।

एसिडिटी का प्रमुख लक्षण है रोगी के सीने या छाती में जलन। अनेक बार एसिडिटी की वजह से सीने में दर्द भी रहता है, मुंह में खट्टा पानी आता है। जब यह तकलीफ बार-बार होती है तो गंभीर समस्या का रूप धारण कर लेती है।

मुँहासे एक गंभीर समस्या है, लेकिन साथ मेंसक्षम दृष्टिकोण और जटिल उपचार आपकी त्वचा बिल्कुल सही दिखेगी। विशेषज्ञों की सहायता कभी भी ज़रूरत से ज़्यादा नहीं होती है, बल्कि स्वतंत्र रूप से भी, दृढ़ता और दृढ़ता से दिखती है, चेहरे पर मुंह से छुटकारा पाना संभव है।

यह आसन हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाता हैं। इसके साथ ही इस आसन को करने से जहरीले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और हमारा शरीर शुद्ध हो जाता है। इस आसन को करने से दिमाग शांत हो जाता है और कब्ज से राहत मिलती है। बालों के गिरने और सफेद बाल होने पर विशेषज्ञ हमेशा से ही इसी आसन को करने का सुझाव देते हैं।

जड़ीबूटी और मसालों का इस्तेमाल करें: अजवाइन को कच्चा खाने से आपका मुंह और दांत साफ़ रहते हैं, और इससे आपकी सांस दुर्गंध भी दूर हो जाती है। इलायची, छिलकों के साथ या पिसी हुई खाने से आपकी सांस को ताजा रखने में मदद मिलती है। मसालेदार भोजन के बाद सौंफ को चबाएं, या इन्हें पीस कर टूथब्रश पर छिड़कर ब्रश करें।[१३]

इंटरनेट डेस्क। खूबसूरत दिखना किसे अच्छा नहीं लगता। हर लड़की की चाहत होती है कि उनकी साफ और दमकती त्वचा रहे है लेकिन चेहरे पर होने वाले पिम्पल्स आजकल होना आम बात हो गई इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए बहुत सारे तरीको को अपनाती हैकई तरह के ब्यूटी प्रोडक्ट का इस्तेमाल करती है। लेकिन ये उपाय कुछ देर तक ही प्रभावी रह पाते हैं।

एक बड़ा चम्मच नींबू का रस, डेढ़ चम्मच शहद और एक बड़ा चम्मच दूध एक कटोरी में मिलाएं। इस मिश्रण को चेहरे पर लगाएं और इसे 10 से 15 मिनट के बाद ठंडे पानी से धो दें। रोज़ाना दिन में एक बार यह उपाय करने से आपको एक सप्ताह के भीतर ही सकारात्मक परिणाम नज़र आने लगेंगे। (और पढ़ें – शहद के फायदे और नुकसान)

यह सोचा है कि सोरायसिस ठीक नहीं किया जा सकता है और त्वचा की यह स्थिति पुरानी है। जब आप छालरोग उपचार दवा लेने या समय-समय खराब अस्थिर होने के नाते, यह सुधार कर सकते हैं। समय पर सोरायसिस साल छूट अवस्था में रहने के लिए प्रकट नहीं होता है। सर्दियों की अवधि समय जबकि गर्मियों के महीनों, इसके विपरीत, धूप में घूमना – एक असली प्राकृतिक छालरोग उपचार के लिए धन्यवाद त्वचा में सुधार जब हालत, खराब कर सकते हैं हो सकता है।

Turmeric has great antimicrobial and antiseptic properties and works for all skin problems. It can be used by mixing with water and making a thick and smooth paste. Apply this paste properly in the pimple region and leave it for some time to dry. It helps in killing the bacteria in the pimple. Once it is dried wash it off with normal water. Repeat the process daily to see better results.

नियमित रूप से दांतो की जांच करवाएं: डेंटिस्ट के पास जा कर अपने ओरल हेल्थ की जांच करवाना आवश्यक है, जिसका प्रथम कारण दुर्गंधित सांस है। डेंटिस्ट, या डेन्टल हाइजीनिस्ट, आपके दांतो, मसूड़ों और मुंह की अच्छी तरह से सफाई कर देंगे।[४]

दाग धब्बों को खुरचने से बचें: खुरचना आपकी त्वचा को ठीक करने की बजाए और ज्यादा खराब कर सकती है | आपके हाथों के बैक्टीरिया खुरचे हुए मुँहासों में मिलकर, आपकी त्वचा को संक्रमित करके सूजा सकती है | इसलिए, हमेशा खुरचने से बचें |

घर सौंदर्य ट्रिक्स यह अमेज़न संबद्ध प्रोग्राम यूरोपीय संघ में एक भागीदार है, एक विज्ञापन कार्यक्रम सहबद्ध वेबसाइटों विज्ञापन और Amazon.es के लिए लिंक के लिए कमीशन प्राप्त करने के लिए एक साधन प्रदान करने के लिए बनाया.

ध्यान रखें, अपनी जीभ को भी अवश्य साफ करें, क्योंकि आप की जीभ पर काफी बैक्टीरिया जमा हुए होते हैं, जिसकी वजह से सांस में दुर्गन्ध हो सकती है। जीभ के ऊपर पीछे से आगे की तरफ ब्रश करें और जीभ के कोनों को न भूलें। अपने जीभ पर चार बार से ज्यादा बार ब्रश न करें और ध्यान रखें कि ब्रश करते वक्त जीभ के ज्यादा पीछे तक ब्रश न करें।

भोजन में दालचीनी पाउडर का 1 चम्‍मच रक्‍त में शर्करा का स्‍तर कम करता है। इसके प्रयोग से टाइप टू डायबीटिज में रक्‍त शर्करा 18 से 24 फीसदी तक कम हो सकती है। टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों के लिए दालचीनी एक वरदान से कम नहीं है। दालचीनी टाइप-2 मधुमेह पर सकरात्मक प्रभाव डालता है और मधुमेह रोगी को एक स्वस्थ और साधारण जीवन व्यतीत करने में मदद करता है।

    शहद में एन्टी-इन्फ्लैमटोरी (anti-inflammatory) और एन्टी-बैक्टिरीअल (anti-becterial) के गुण पाये जाते है। जो सौन्दर्य और स्वास्थ्य दोनों क्षेत्र में बहुत ही अच्छा काम करता है। इसको खाने के अलावा अपने मुंहासो पर रोजाना शहद लगाने से चेहरे के दाने (Pimple) एवं मुँहासे (Acne) आसानी से दूर हो जातें हैं। शहद का लेप को 10 – 15 मिनट रखने के बाद चेहरे को हल्का गरम पानी से धो लें। इससे दाने (Pimple) एवं मुँहासे (Acne) से आसानी से निजात पाया जा सकता है।

तैलीय त्वचा आजकल की धूल धक्कड़ भरी दुनिया में बहुत ही आम समस्या हो गयी है। त्वचा की बाहरी परत पर अतिरिक्त तेल इकट्ठा होने से अक्सर व्हाइटहेड्स और ब्लैकहैड्स, छोटे छोटे दाने और अन्य त्वचा समस्याएं हो जाती हैं। 

एबॉट के बाउंसर से घायल हुए विल पुकोस्की जेब्रा क्रॉसिंग तो है पर नहीं मिलता पूरा समय चित्तरंजन एवेन्यू में 70 वर्ष पुराने मकान का हिस्सा ढहा इस बार स्नूकर में भारत ने पाकिस्तान को किया धराशायी केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह बोले – कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी नॉन सीरियस नेता हैं

Sir mere face par pimpals ho gaye hai aur kali si keel ho jati hai aur funsi jesi ho jati hai please help me aur sir agar ham garmi ke mosam me haldi lagae to koi nuksan to nahi hoga kyo haldi garm hoti hai

जल्दी से कील मुहांसों से मुक्ति पाने के लिए सबसे पहले अपना पेट सॉफ रखें बाहर का खाना जैसे की जंक फूड तो बिल्कुल हि ना खाएँ प्रापर नींद लें तनाव मुक्त रहें चेहरे को धूल मिटी से बचाएँ हरी पतेदार सब्जी खाएँ साबुन का प्रयोग ना करें|

अपने आहार में परिवर्तन करें: कुछ शुगरी, फैटी, और तले हुए जंक फ़ूड (junk foods) आपके शरीर में इन्सुलिन (insulin) बढ़ने का कारण हो सकते हैं जो कि शरीर को ज्यादा सीबम (Sebum) बनाने के लिए मजबूर करता है, यह भी मुँहासे होने का एक कारण है।

नींबू का अम्लीय गुण खराब त्वचा के उपचार में बहुत सहायक हो सकता है। नींबू त्वचा की धूल मिट्टी को साफ कर देगा जो रोमछिद्रों में इकट्ठा हो चुका है और सीबम को मजबूत करेगा। नींबू का रस में साइट्रिक एसिड (citric acid) एक शक्तिशाली एस्ट्रिंजेंट (astringent) है जो मृत त्वचा कोशिकाओं को हटता है और नई त्वचा वृद्धि को प्रोत्साहित करता है। ये मुहांसों को सूखा देता है और उनके निशानों को हल्का कर देता है।

–> कील मुहाँसे का इलाज करने में जो सबसे असरकारक घरेलू फेस पैक (Homemade Face Pack) है उसे बनाने के लिए आपको बस इतना करना है कि दो चम्मच खीरे का रस, दो चम्मच गुलाबजल, एक चम्मच ब्रांडी, एक चम्मच की सफेदी और थोड़ा सा नीबू का रस आपस में मिलाकर लोशन तैयार कीजिए | इस लोशन को धीरे – धीरे मलते हुए चेहरे पर लगाइए और सूखने के उपरान्त गुनगुने पानी से धो लीजिए | इस उपाय को करने से न सिर्फ कील – मुंहासा दूर होते है बल्कि कील मुहासे के दाग – धब्बों से भी छुटकारा मिलता है | 

शुरू -शुरू में हो सकता है की मसूड़ों से रक्तस्राव हो क्यूंकि दाँतो और मसूड़ों के बीच से जाने कितने समय से फसे हुए अन्न के टुकड़े निकलेंगे। हिम्मते करके क्षण भर को दाँतों से निकले फ्लॉस को सूंघें तो आपको पता चलेगा कि मुँह से दुर्गंध कहाँ से आ रही है।

One thought on ““मुँहासे तेज आहार से छुटकारा सबसे अच्छा मुँहासे उपचार कैसे करें””

  1. शरीर में जल का स्तर का संतुलन ही सिर्फ सांसों की ताजगी को बनाए रखा जा सकता है। जब हमारे शरीर में जल का स्तर कम हो जाता है तो मुंह में लार का बनना कम हो जाता है। जिससे सांसों में बदबू पनपती है। विटामिन सी- संतरा, निंबू या सभी खट्टे रस वाले फलों में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है, ये सांसों की बदबू दूर करने में मददगार हैं। विटामिन सी को जीवाणुओं से लड़ने वाले पदार्थ के रूप में जाना जाता है।
    जो लोग जानते हैं कि कैसे मुँहासे से छुटकारा पाने के लिए करना चाहते हैं में अपने महान सहयोगी ककड़ी बनाना, के बाद से इस प्राकृतिक घटक के रूप में कार्य करता है एक कसैले और ग्रेनाइट की सूजन कम कर देता है इसके सुखदायक संपत्तियों के लिए धन्यवाद.
    यह आपके चेहरे पर कोई गलत परिणाम नहीं देते . मुहाँसे के लिए मेडिकल इलाज लेने से पहले हमेशा ही घरेलु इलाज लेना चाहिए क्यूंकि मेडिकल इलाज से चेहरे की प्राकृतिक सुन्दरता चली जाती हैं और चेहरा बेजान हो जाता हैं .अपने चेहरे से मुहाँसे हटाने के लिए पहले साधारण घरेलु इलाज करे जिससे चेहरे में और अधिक निखार आता हैं .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *