“मुँहासे से छुटकारा पाने में क्या मदद मिल सकती है मुँहासे की आसान त्वचा से मुक्ति पाने”

दूध एक बहुत अच्छा तेल मुक्त क्लीन्ज़र है, जो तेलीय त्वचा को नरम और कोमल बनाता है। दूध में भी अल्फा हाइड्रॉक्सी एसिड होता है जो त्वचा की मृत कोशिकाएं हटाता है और त्वचा का प्राकृतिक पीएच संतुलन बनाए रखता है। (और पढ़ें – चेहरे पर कच्चे दूध लगाने के फायदे)

A) पंप या मुँहासे का कारण बनता है जब त्वचा ग्रंथियों के उत्पादन सेबम (त्वचा के तेल) के छिद्र भरा हो जाता है और इस प्रकार सेबम बच नहीं सकते वे हार्मोनल परिवर्तन, तनाव, पसीना, अत्यधिक नमी और स्टेरॉयड के उपयोग सहित कई कारकों से शुरू हो रहे हैं।

    शहद में एन्टी-इन्फ्लैमटोरी (anti-inflammatory) और एन्टी-बैक्टिरीअल (anti-becterial) के गुण पाये जाते है। जो सौन्दर्य और स्वास्थ्य दोनों क्षेत्र में बहुत ही अच्छा काम करता है। इसको खाने के अलावा अपने मुंहासो पर रोजाना शहद लगाने से चेहरे के दाने (Pimple) एवं मुँहासे (Acne) आसानी से दूर हो जातें हैं। शहद का लेप को 10 – 15 मिनट रखने के बाद चेहरे को हल्का गरम पानी से धो लें। इससे दाने (Pimple) एवं मुँहासे (Acne) से आसानी से निजात पाया जा सकता है।

Psoriasis त्वचा है कि तेजी से प्रजनन लाल रंग के सूखे धब्बे का कारण बनता है पर त्वचा की सतह और त्वचा और अधिक मोटा होना त्वचा सेल की जरूरत पर जोर देता की एक शर्त है। हालत बढ़ नहीं रहा है। के रूप में बहुत जल्दी त्वचा सेल बनाता है, तराजू कि परिणाम के रूप में दिखाई देते हैं और गुच्छे भी सूखी। सोरायसिस आमतौर पर घुटने, कोहनी, खोपड़ी पर फैला हुआ है।

#health solution #health tips #www.onlyinayurveda.com #crazy india #ayurveda for healthy life Health website health article health news Ghrelu Nuskhe health remedy #how to cure health problems solution in ayurveda desi nuskhe #how to get rid from health problems solution in ayurveda top news ayurvedic medicine #astronomy ayurved tips news #how to cure health problems solution with home remedy only in ayurveda ayurveda health tips health solution with home remedy #vastu tips for wealth creation #vastu tips for money home remedies

शुरू -शुरू में हो सकता है की मसूड़ों से रक्तस्राव हो क्यूंकि दाँतो और मसूड़ों के बीच से जाने कितने समय से फसे हुए अन्न के टुकड़े निकलेंगे। हिम्मते करके क्षण भर को दाँतों से निकले फ्लॉस को सूंघें तो आपको पता चलेगा कि मुँह से दुर्गंध कहाँ से आ रही है।

जिस तरह हम लोग रोज नहाए रोज मुंह धोए बिना नहीं रह पाते हैं उसी तरह हमें अपने कानों का भी जरुर ख्याल रखना चाहिए क्योंकि कानों की सफाई अगर हम नहीं करेंगे तो धीरे-धीरे कान के अंदर जो हमारा महल है वह जनता जाएगा जनता जाएगा और एक समय ऐसा आएगा कि उसकी वजह से हमारे कान की सुनने की क्षमता बहुत ही ज्यादा कम हो जाएगी साथ ही कान में दर्द होना भी शुरू हो जाएगा!

* लौंग का तेल : आप मुंह के छालों को ठीक करने के लिए लौंग के तेल की भी मदद ले सकते हैं। क्योंकि आपकी जीभ काफी संवेदनशील होती है, अतः इसके उपचार का तरीका काफी महत्वपूर्ण होता है। इस उपचार के लिए 4 से 5 बूँदें लौंग का तेल, आधा चम्मच जैतून का तेल, गर्म पानी और रुई की आवश्यकता होगी।

Aloe vera has ancestral popularity for its antifungal and antibacterial properties. Aloe vera gel is available in the market, but if you have aloe vera leaves in your home, then you can make use of it. Apply the aloe vera extract on the pimple and let the skin absorb it for 10 minutes. It can be applied on the face also. It kills the bacteria and reduces the redness of pimple.

अगर आपको बार-बार मुंह के छाले Muh ke chhale हो रहे हैं तो अपने मुंह की सफाई पर विशेष ध्यान दीजिए। ज्यादा मसालेदार और गरिष्ठ भोजन करने से बचें। अगर फिर भी छाले ठीक न हो रहे हों तो जल्द चिकित्सक से सलाह व उपचार अवश्य लीजिए।

इन उपायों को जब आप अपनाते है तो अपना धैर्य बनाये रखे क्योंकि आयुर्वेदिक तरीके अपना असर धीरे – धीरे करते है. अगर आप लगातार यह करते रहोगे तो आपको भी दाग – धब्बो से छुटकारा मिल जायेगा और चेहरे में निखार आने लगेगा.

जिस तरह हम अपने शरीर को साफ रखते हैं रोज नहाते हैं रोज अपना मुंह धोते हैं उसी तरह हमें अपने कानों की सफाई कमी जरूर ध्यान रखना चाहिए आपको जानकर हैरानी होगी कि आज के समय ना सिर्फ भारत में बल्कि पूरे विश्व में कहां से जुड़ी समस्याएं काफी ज्यादा पैदा हो है और इस सब का सबसे बड़ा कारण है कानों में जमी रहने वाली महल आज हम जो वीडियो आपको लाए हैं उसमें आपको बहुत ही अच्छे और उपयोगी जानकारी काम से जुड़ी हुई दी गई है!

मुंह की दुर्गंध (Mouth Bad Smell) की समस्या अक्सर दूसरों के सामने शर्मिंदगी का कारण बन सकती है। जिसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। जैसे ब्रेकफास्ट न करना, मुंह की सफाई न करना, खराब डाइजेशन और सलाइवा की कमी जैसी कई समस्याएं होती हैं। इसे खान-पान में सुधार करके काफी हद तक कम किया जा सकता है। आइए जानेंगे इनके बारे में— सबसे पहले तो दांतों और मुंह से बदबू आने के कारण जानते हैं।

यदि सम्भव हो तो अपने कूल्हों को धूप लगाएँ: यदि आपके पास अपना निजी आँगन (private backyard) है या न्यूड समुद्र तट (nude beach ) पास में है तो एक गर्म दिन पर अपने कूल्हों को कुछ धूप लगाएँ। सूरज प्राकृतिक रूप से ज्यादा तेल को सुखा देगा।

समुद्री नमक के इलाज से वास्तव में आपको मुँहासे से मुक्ति मिल सकती है। जिन जिन लोगों ने पीठ के मुँहासे के इलाज के लिए इस उपाय का इस्तेमाल किया है, उन्होनें इसके तुरंत और प्रभावी समाधान की हमेशा प्रशंसा की है।

Dalchini आपके रक्त में ट्राइग्लिसराइड्स और एल.डी.एल. (“खराब कोलेस्ट्रॉल”) के स्तर को काफी कम कर सकती है, जिससे हृदय रोग के जोखिम को कम किया जा सकता है। दालचीनी में मौजूद सक्रिय संघटक कोशिकाओं की चीनी को तोड़ने की क्षमता को 22 गुना तक बढ़ा देते हैं।

मेडिसिन की भाषा में मुंह से दुर्गंध (Bad Breathing) की स्थिति को हैलीटोसिस कहते हैं| ये मुंह की सफाई का ठीक से ख्याल ना रखने और खान पान की गलत आदतों से पैदा होती है| सांस की बदबू का कारण अक्सर जीभ, दांतों और मसूड़ों पर जमे बैक्टीरिया के प्लाक के कारण आती है | इसीलिए जीभ को रोज साफ करना चाहिए|

सच में बर्फ लगाने के कई फायदे है त्वचा के लिए, जानिए कैसे ice cubes कई तरह के benefits देता है हमारे skin को in Hindi. बर्फ के टुकड़े लगाने भर से चेहरे के सुजन से ले कर फुंसी तक कम हो जाती है | गर्मियों के महीनों में भयानक गर्म होती है, इसमे बर्फ का cube हमे राहत प्रदान करता है | ice cube पूरी तरह से आपके शरीर और आत्मा को शांत करता है और आपको तेज गर्मी से बचाता है । अपने सामान्य juice में दो या तीन बर्फ के cubes को जोड़ना आपके पूरे सिस्टम को शांत करता है | आप इसे अतिरिक्त शीतलता के लिए अपने सामान्य पानी में भी इस्तेमाल कर सकते हैं । कार्यालय में काम करते वक्त मुश्किल दिन बिताने के बाद,बर्फ का एक टुकड़ा वास्तव में आपको relax महसूस कराता है |

One thought on ““मुँहासे से छुटकारा पाने में क्या मदद मिल सकती है मुँहासे की आसान त्वचा से मुक्ति पाने””

  1. हमेशा शुगर फ्री गम या मिंट का ही इस्तेमाल करें, क्योंकि शक्कर हानिकारक बैक्टीरिया को बढ़ाने में मदद कर सकता है, और जैसे ही शुगर वाली गम या मिंट खाकर खत्म हो जाएगी, तो आपकी सांस की दुर्गंध और ज्यादा बढ़ जाएगी।
    अपने कूल्हों पर एक एस्पिरिन (aspirin) का मास्क लगायें: चार या पाँच एस्पिरिन की गोलियों को पीस लें। यह सुनिश्चित करें कि गोलियों के बाहर कोई भी आवरण (coating) न हो। इसे एक टेबल स्पून हल्के गर्म पानी के साथ मिलाएँ या फिर शहद या सादे दही के बड़े हिस्से के साथ मिलाएँ, यह आपकी इच्छा पर निर्भर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *