“मुंहाल निशान से छुटकारा पाने के लिए |पंप को कैसे तेजी से जाना”

मुँहासे से सबसे ज्यादा प्रभावित अगर कोई अंग होता है तो वह है चेहरा और भला मुहाँसे वाला चेहरा किसे पसंद होता है | शायद इसलिए चेहरे से पिपल्स हटाने के लिए सभी लोग तमाम उपाय करते है, तरह – तरह की दवाइयाँ तथा क्रीम लगाते है, डॉक्टर के पास भी जाते है लेकिन फिर भी यह समस्या जस की तस रहती है |

कैस्टर ऑइल में त्वचा की मरम्मत के गुण होते हैं और यह काले धब्बे दूर करने में आपकी काफी सहायता करता है। प्रभावित भाग को अच्छे से साफ कर लें तथा इसके बाद अपनी त्वचा पर कैस्टर ऑइल से 5 मिनट तक मालिश करें। इसे 20 मिनट के लिए छोड़ दें और एक गीले कपड़े से इसे पोंछ लेने से पहले चेहरे पर 5 मिनट तक दोबारा मालिश करें। अंत में इसे पानी से धो लें। इस उपचार का प्रयोग दिन में 2 बार करके एक महीने में अच्छे परिणाम प्राप्त करें।

एक टमाटर को काटकर उसके गूदे या रस को निकालकर मुँहासों पर लगाएं। यदि यह आपकी त्वचा के सूखने का कारण बनता है, तो थोड़ा सा पानी उपयोग करके टमाटर का गूदा पतला कर लें। इसे दिन में १ या २ बार से ज़्यादा बार न लगाएं क्योंकि यह त्वचा के अत्यधिक सूखने का कारण बन सकता है।

Aloe vera has ancestral popularity for its antifungal and antibacterial properties. Aloe vera gel is available in the market, but if you have aloe vera leaves in your home, then you can make use of it. Apply the aloe vera extract on the pimple and let the skin absorb it for 10 minutes. It can be applied on the face also. It kills the bacteria and reduces the redness of pimple.

कान के पास के बिंदु को दबाने से भूख पर कंट्रोल होता है और जरूरत से ज्यादा खाने की आदत से छुटकारा होता हैं। एक्यूप्रेशर तकनीक अपनाते हुए कान के पास फ्लैप हिस्से को दो से तीन मिनट तक दबाना होगा। वैसे तो आप इस तकनीक को सुबह या शाम किसी भी वक्त अपना सकते हैं, लेकिन सुबह के समय इस हिस्से को दबाना ज्यादा बढ़िया रहेगा।

बेशक, हमेशा उपलब्ध नहींउचित उपचार के लिए पर्याप्त समय, कभी-कभी आपातकालीन उपाय आवश्यक हैं बहुत जल्दी से यह मुँहासे की मात्रा को कम करने में मदद करता है, साथ ही ज़ेंरनिटाइटिस की सूजन की तीव्रता भी। इस दवा में एक शक्तिशाली एंटीबायोटिक शामिल है, जो रोगजनकों को नष्ट कर देता है। इसके अलावा, ज़ेंरिएट सक्रिय रूप से बड़ी चक्कर आती है, उनके प्रसार को रोक देता है।

ठीक है, अस्वीकरण: बहुत से इंसान इस उपचार की कसम खाता है, और यह हैला चिकना है (जो अब तक टूथपेस्ट के आसपास भोगता है ?!) लेकिन यह मील मुश्किल है उम्मीद कर रहे हैं कि आपकी त्वचा टूथपेस्ट के अपने लोगो के लिए प्रतिक्रिया करेगी। “टूथपेस्ट्स में पदार्थ और सुगंध शामिल हो सकते हैं जो त्वचा को खराब और नुकसान पहुंचाएंगे” डॉ बोवे कहते हैं। यदि आपको ऐसा करने की ज़रूरत है, तो निश्चित करें कि आप पहले किसी पैच का परीक्षण करते हैं, खासकर जब आपके पास संवेदनशील त्वचा होती है

नींबू निचोड़ने के बाद जो फाँकें (छिलका) बचता है, उसे इकट्ठी करके सूखा लें। सूखने पर पीस लें। इसकी दो चम्मच में एक चम्मच बेसन मिलाकर पानी डालकर पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाये । आधा घण्टे बाद चेहरा धोयें। मुँहासे, झाँइयाँ, धब्बे ठीक हो जायेंगे।

सेल्‍युलाइट से ज्यादातर महिलाओं को भय होता है। यह 80% से अधिक महिलाओं को प्रभावित करता है। फैट के शरीर पर जमाव को सेल्‍युलाइट कहते हैं, जिससे त्‍वचा असमान हो जाती है। सेल्युलाइट ज्यादातर थाईज, पेट और हिप्स में पाया जाता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं को आम तौर पर सेल्‍युलाइट होने का खतरा अधिक होता है। हालांकि इसके लिए कोई निश्चित कारण नहीं है। सेल्‍युलाइट के कई कारण हो सकते हैं जैसे आहार, हार्मोन परिवर्तन, निर्जलीकरण, धीमी चयापचय दर, कुल शरीर की चर्बी और शारीरिक गतिविधि में कमी आदि। यहां तक कि अधिक तनाव भी सेल्‍युलाइट का कारण बन सकता है। महंगी सर्जरी के बजाय आप कुछ घरेलू तरीकों के द्वारा सेल्‍युलाइट से छुटकारा पा सकते हैं। आइए प्राकृतिक रूप से सेल्‍युलाइट को कम करने के उपायों के बारे में जानें :-

कुछ लोग की सफाई के लिए डॉक्टर का सहारा लेते हैं डॉक्टर के पास जाते हैं और डॉक्टर से कानों की सफाई करवाते हैं तो कुछ लोग राह चलते लोगों से जो भी काम साफ करने का काम करते हैं उनसे कानों की सफाई करवाते हैं लेकिन हम आपको बता दें कि यह सब आपको करने की जरूरत नहीं है आप आराम से घर बैठे कानों की सफाई कर सकते हैं जोकि सबसे आसान भी है और इसमें कोई पैसा भी खर्च नहीं होगा!

सोने के अभाव, बहुत अधिक तनाव, अस्वस्थ भोजन की आदत और एक व्यस्त जीवन शैली भी मुँहासे पैदा होने का कारण हो सकती है। मुँहासे चेहरे, छाती पर, पीठ और सिर पर दिखाई दे सकते हैं। यद्यपि इनका कोई निश्चित इलाज नहीं है, किंतु कई सरल घरेलू प्राकृतिक सामग्री हैं, जिनका उपयोग मुँहासे हटाने के लिए किया जा सकता है।

भेंट के अलावा एक टिप घर का सौंदर्य उपचार है कि कैसे मुँहासे से छुटकारा पाने के लिए समझाने की मांग लोगों के लिए, इस पोस्ट के माध्यम से हम भी अनुशंसा करते हैं कि, जब यह ग्रेनाइट के लिए एक अंत डाल करने के लिए आता है, दैनिक त्वचा के अपने प्रकार के अनुसार उत्पादों के साथ अपने चेहरे को साफ करने के लिए याद रखें, आप exfolies सप्ताह में एक बार त्वचा, आप तनाव और तम्बाकू से दूर चलाने के लिए और एक स्वस्थ और संतुलित आहार संतृप्त वसा के नि: शुल्क ले लो.

4  जायफल को गाय के दूध के साथ घीसे और लेप तैयार करें इस लेप को चेहरे पर लगाये कुछ देर बाद इसे मलते हुए उबटन की तरह निकल दे यह प्रयोग 4 से 5 दिन करे आपको मुँहासे से राहत मिलेगी .और दाग धब्बे भी दूर होंगे .

त्वचा के चकत्ते का इलाज – (Freckles)- त्वचा पर जहाँ कहीं भी चकते हों, उन पर नींबू का टुकड़ा मसले। नींबू में फिटकरी का पाउडर भरकर धीरे धीरे लगाये। इससे चकते हल्के होते हैं और त्वचा में निखार आ जाता है। इसके अलावा हाथ धोकर नींबू का रस रगड़ने से हाथ नरम हो जाते हैं और नाखून सुंदर हो जाते है|

यदि आप चाहते है की आपकी दाढ़ी और मूछ का रंग सफेद न हो तो इसके लिए अपने रोजाना के भोजन में फल, हरि सब्जियां, दाल तथा प्रोटीन युक्त पदार्थो का सेवन करें तथा जंक फ़ूड खाना,शराब का सेवन करना छोड़ दे इसके साथ ही अपने सफेद बालों को छुपाने के लिए डाई का प्रयोग बिलकुल न करें क्योकि इनमे केमिकल मिले होते है।

एलोविरा का प्रयोग करें: एलोविरा का रस एक ऐसा प्राकृतिक पदार्थ है जो कई प्रकार कि बिमारियों, चोट लगना, जल जाना, या मुँहासों को दूर करता है | यह त्वचा को फिर से नया बनाकर नमी प्रदान करता है | एलोविरा को किसी भी दुकान में पाया जा सकता है, लेकिन एलोविरा के पत्तियों का रस सब से ज्यादा उपयोगी माना गया है | इसके जैल को धब्बों पर लगाकर छोड़ दें | धोने की भी जरुरत नहीं है |

अमेरिकन केमिकल सोसायटी के जर्नल ऑफ नेचुरल प्रोडक्ट में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, मुलेठी की जड़ दांतों को स्‍वस्‍थ रखने में मदद करती है। मुलेठी में मौजूद एंटी-बैक्‍टीरियल गुण बैक्‍टीरिया के कारण होने वाली कैविटी के विकास को रोकने में मदद करता है। इसके अलावा यह जडी-बूटी प्‍लॉक को कम करने में भी मदद करती है। नियमित रूप से दांतों में ब्रश करने के लिए मुलेठी की जड़ के पाउडर का प्रयोग करें। इसके अलावा आप टूशब्रश करने के लिए मुलेठी की स्‍टीक का इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

तला हुआ खाना न खाएँ: बहुत ज़्यादा चिकना तला हुआ खाना आपके शरीर को बलगम तोड़ने में दिक्कत देता है जिससे आपका बलगम को सहने का समय बढ़ जाता है। इससे बचने के लिए कुछ भी तला हुआ या बहुत सारे तेल में बना हुआ न खाएँ।

यहां तक ​​कि यहां तक ​​कि जब तक आप मुँहासे से दूर रखने के लिए अपनी पूरी कोशिश करते हैं, कभी-कभी आप मुँहासे के साथ उभरने लगते हैं सौभाग्य से, एक दाना बंद करने के लिए बहुत सारे तरीके हैं सबसे आसान विकल्प में ग्लोलिक एसिड या बैंजोल पेरोक्साइड वाले सामयिक जवाब हैं। यदि आप एक हर्बल तकनीक का चयन करते हैं, तो आप चाय के पेड़ के तेल का जवाब पढ़ सकते हैं या बर्फ का इस्तेमाल कर सकते हैं। एक समय में एक उपचार की कोशिश करें, और अपने छिलके और त्वचा को चौबीस घंटे छूट दें, इससे पहले कि आप कुछ नया प्रयास करें ..

योग और आयुर्वेदिक उत्पादों का इस्तेमाल करने से आपकी जीवन शैली में कई बदलाव आते हैं। इसके लिए आप शराब का सेवन करना बंद करें। मेडिटेशन करें इससे तनाव दूर होता है। अगर आप हमेशा अच्छे आकार में रहना चाहती हैं तो इन आसनों को रोजाना करें।

मुलेठी में भरपूर मात्रा में आयुर्वेदिक गुण मौजूद होते हैं. जिसके कारण ये हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है. मुलेठी में भरपूर मात्रा में कैल्शियम, ग्लिसराइजिक एसिड, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटीबायोटिक, प्रोटीन और वसा के गुण मौजूद होते हैं. इसके सेवन से सर्दी-खांसी, जुकाम, कफ, गले और यूरिन इंफैक्शन जैसी समस्याओं से आराम मिलता है. आज हम आपको मुलेठी के कुछ घरेलु नुस्खों के बारे में बताने जा रहें हैं.

6 नींबू का रस पिंपल भगाने में सबसे कारगर उपाय है। इसके रस से अपने चेहरे की 10-15 मिनट तक मालिश करने से राहत मिलेगी। हां, अगर इसके प्रयोग से आपकी स्‍किन में जलन महसूस हो रही हो तो इसको डाइरेक्‍त ना इस्‍तमाल करें। तब इसको पानी या चंदन पाऊडर में मिला कर लगाएं।

जैसा की हम सभी जानते है की गर्मी के समय बर्फ को कई तरह से use किया जाता है, पर और सभी मौसम में भी चहरे पर बर्फ लगाने से कई तरह के लाभ होते है, तो आइये जानते है इसके health और skin benefits के बारे में विस्तार से:

मुँह में दुर्गन्ध पैदा करने वाले खाद्य पदार्थों से बचें:आप शायद पहले से ही जानते हैं कि प्याज, लहसुन, पनीर, और कॉफी (या उन्हें खाने के बाद कम से कम अच्छे से ब्रश करें) जैसे बदबूदार खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए।[५]

अपनी नाक को ज़्यादा ब्लो न करें, खासकर एक साइड पर। उसका ज़ोर बलगम को आपके साइनस और कानों में और अंदर ब्लो कर सकता है, जिससे सिरदर्द व कान में दर्द होगा। अगर आपको ब्लो करने की ज़रूरत है, तो ऐसा आराम से व दोनों नॉस्ट्रील्स के साथ करें।

एक्‍ने त्‍वचा की समस्‍या है, इसके उपचार के लिए आयुर्वेद अपनाना फायदेमंद है। आयुर्वेद में कुछ ऐसे एंटीऑक्सीडेंट्स हैं जिनके उपयोग से एक्ने की समस्या से आसानी से निजात पाई जा सकती हैं। आइए जानें एक्ने के आयुर्वेदिक उपचार के बारे में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *