“मुंह से कैसे मुकाबला करना _मुँहासे के निशान से छुटकारा पाने के लिए रात भर”

मुंह से निकलने वाली बदबू या सांसों की दुर्गन्ध आज के समय की सबसे ज्यादा जटिल समस्या है जो हर किसी के सामने शर्मिदा करने का अहसास कराती है। आज के समय में यह दिक्कत कई लोगों में पाई जाती है। इस समस्या से परेशान लोग अपने सहपाठी, पड़ोसी, सहकर्मी या अन्‍य किसी के साथ बात करने या नजदीक बैठने से भी कतराने लगते हैं। मुंह की दुर्गन्ध या सांस की बदबू के आने का सबसे बड़ा कारण मुंह में पाये जाने वाले बैक्टीरिया होते हैं जो ‘सल्फर कम्पाउंड’ बाहर निकालते हैं। जिसकी वजह से सांस की बदबू होती है।

शहद इस्तेमाल करें: शहद से ना सिर्फ मुँहासे साफ़ होंगे बल्कि जो लाल दाग पीछे रह जाते हैं, वे भी साफ़ हो जाएंगे | शहद में मौजूदा एंटी-बैक्टीरियल गुण से त्वचा कोमल और सूजन मुक्त बनेगी | किसी भी क्यू-टिप से इसे सीधे निशानों पर लगाया जा सकता है |

धूम्रपान न करें: आप जो भी इन्हेल करते हैं वह आपके शरीर को प्रभावित करता है और हानिकारक चीजों ,जैसे की सिगरेट, सिगार या अन्य ड्रग्स, का धुआँ इन्हेल करने से आपके गले और फेफड़ों की हालत और खराब हो सकती है। इन चीज़ों का धुआँ आपके शरीर की जल्दी से ठीक होने की क्षमता में दखल देता है और साथ ही साथ आपके शरीर में बलगम के उत्पादन को बढ़ाता है। कम से कम बीमारी के दौरान अपनी जीवन शैली से धूम्रपान को हटाने की कोशिश करें।

अधिकांश किशोरों के लिए, मुँहासे यौवन के दौरान अस्थिर हार्मोन के स्तर के वजह से होते हैं वसामय ग्रंथियों (सेबेसियस ग्लैंड्स) को ज़्यादा काम करने के लिए उत्तेजित करते हैं। यह अतिरिक्त त्वग्वसा (सीबम), त्वचा की सबसे बाहरी परत के मृत कोशिकाओं और छिद्र को रोकने वाले बैक्टीरिया के साथ जुड़ती हैं और मुँहासे पैदा करती हैं। यह चिकनी(ऑयली) त्वचा के परिणाम स्वरुप भी हो सकती हैं। दानों के खुजाने या फोड़ने से और चेहरे पर कुछ कृत्रिम सामग्री जिसके बारे में आपको ज्यादा नहीं पता हो का उपयोग करने से आप समस्या को बढ़ा देते हैं। बल्कि, आपकी त्वचा को स्वस्थ और मुँहासों से मुक्त रखने के लिए सरल हर्बल उपचारों का उपयोग करें।

इंटरनेट डेस्क। मुंह में छाले होना युं तो बहुत आम सी बीमारी है परन्तु अगर इसका समय रहते मुंह के छाले का इलाज न करे तो ये बड़ी परेशानी का कारण बन सकती है। छाले होने के कई कारण हो सकते है जिसमें से ज्यादा चटपटा, मसालेदार और तीखा खाना मुख्य कारण है। कुछ लोगों को ये छाले बार-बार होते हैं और परेशान करते हैं। ऐसे लोगों को अपनी पूरी डॉक्टरी जाँच करानी चाहिए, ताकि उनके कारणों का पता लगाकर उचित इलाज किया जा सके। वहीँ कुछ घरेलु उपाय है जो आपको इससे निजात दिला सकते हैं…

पिम्पल्स हटाने के तरीके इन हिंदी: गोरे चेहरे पर कोई दाग धब्बा या निशान पड़ जाए तो चेहरे की सुंदरता फीकी पड़ने लगती है। चेहरे पर कील मुंहासे (acne) निकलना आजकल आम हो गया है। ऑयली स्किन पर पिम्पल्स निकलने की समस्या अधिक होती है। पिम्पल को अगर हाथ से फोड़ दे तो पिम्पल्स के दाग चेहरे पर रह जाते है। अक्सर कील मुंहासों के ज़रिए शरीर की गर्मी बाहर निकलती है जो खाने पिने की गलत आदतों से हो जाती है। अगर त्वचा को पोषण देने वाली चीज़े खाए और तले हुए फुड से दूर रहे तो बार बार पिम्पल का निकलना रोक सकते है। हरी सब्जियां, फल और पानी त्वचा को स्वस्थ रखने का उत्तम उपाय है। आज इस लेख में पिम्पल्स कील मुंहासे हटाने के घरेलू उपाय और देसी नुस्खे जानेंगे, natural home remedies tips to remove pimples in hindi.

* तुलसी के पत्ते से उपचार : तुलसी के पत्ते का प्रयोग भी मुंह के छालों में बहुत फायदेमंद है, इससे जल्द ही छालो में राहत मिलती है। तुलसी के तीन से चार पत्तों को पीसकर इसका रस निकालकर छालों पर लगाने से बहुत फायदा होता है।

तमाम कोशिशों के बावजूद कई बार चेहरे पर पिंपल्स यानी मुंहासे हो जाते हैं। खासकर टीनएज में यह समस्या ज्यादा होती है. मुँहासे चेहरे पर कई कारणों से हो सकते हैं , जैसे चेहरे पर जमी गन्दगी को ठीक से साफ न करना या चेहरे का अत्यधिक तैलीय होना आदि , मुँहासे होने पर हमें काफी या मसालेदार भोजन का उपयोग कम करना चाहिए और फलों का सेवन अधिक से अधिक करना चाहिए, पिम्पल्स को दूर करने का सबसे आसान तरीका आप घर पर रह कर आजमा सकते हैं.

गर्म मौसम में, पीठ पर मुँहासे वितरित की जाती हैमहिलाओं के सौंदर्य और मनोवैज्ञानिक परेशानी कई लोग यहां तक ​​कि इस तरह की चकत्ते के कारण बहुत सारे परिसरों का अनुभव करते हैं, समुद्र में आराम करने से इनकार करते हैं, एक स्विमिंग सूट में सार्वजनिक रूप से प्रकट नहीं करना चाहते। इसलिए, पीठ पर मुँहासे से छुटकारा पाने का सवाल सावधानीपूर्वक और विस्तृत अध्ययन के लिए है, और इस समस्या का उपचार एक एकीकृत दृष्टिकोण है।

छाछ मे लॅकटिक एसिड होता है जो की अल्फा हाइड्रॉक्सिल एसिड की तरह काम करता है। यह एक प्रकार का प्रकतिक एसिड है जो चेहरे की मृत त्वचा, धूल और तेल को निकालता है। एक कटोरी मे छाछ ले और रूई की मदद से दाग पर लगाए और अगर मुमकिन है तो आधी मात्रा मे नीबू का रस भी मिला कर मास्क की तरह भी उपयोग सकते है।

अस्वीकरण पत्र- इस साइट पर सभी जानकारी और सामग्री केवल सूचना और शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए हैं। इस जानकारी को किसी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी की चिकित्सा के निदान और उपचार दोनों के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। हमेशा बीमारी के निदान और उपचार के लिए एक योग्य चिकित्सक की सलाह लीजिये।

Tags: Home remedies for pimples in hindiपिम्पल की दवापिम्पल कैसे दूर करेपिम्पल टिप्स इन हिंदीपिम्पल ट्रीटमेंटपिम्पल मुँहासे कैसे हटाएपिम्पल हटाने के घरेलू उपाय नुस्खेपिम्पल्स के दागपिम्पल्स हटाने के तरीकेमुँहासे हटाने के उपाय

घर सौंदर्य ट्रिक्स यह अमेज़न संबद्ध प्रोग्राम यूरोपीय संघ में एक भागीदार है, एक विज्ञापन कार्यक्रम सहबद्ध वेबसाइटों विज्ञापन और Amazon.es के लिए लिंक के लिए कमीशन प्राप्त करने के लिए एक साधन प्रदान करने के लिए बनाया.

* लहसुन : लहसुन की 2 कलियों का रस निकालकर 1 गिलास पानी में मिलाकर कुल्ला करें। रोजाना 4 से 5 दिन तक इसका प्रयोग करने से मुंह के छाले कम हो जाते हैं। लहसुन की कली को पानी के साथ पीसकर उसमें थोड़ा-सा देसी घी मिलाकर मलहम तैयार करें। इस मलहम को छालों पर लगाने से छाले खत्म हो जाते हैं।

चेहरा कितना भी खूबसूरत क्‍यों ना हो अगर उसपर एक छोटा सा भी मुहांसा हो जाए तो वह पूरे चेहरे की सुंदरता को तार तार कर देता है। फिर आप जितना भी मेकप लगाकर उसे छुपाने की कोशिश करें वह बेकार ही जाता है। इसके लिए जरुरी है क‍ि आप अपने खाने-पीने पर और त्‍वचा की साफ सफाई का पूरा ध्‍यान दें।

जिस तरह हम लोग रोज नहाए रोज मुंह धोए बिना नहीं रह पाते हैं उसी तरह हमें अपने कानों का भी जरुर ख्याल रखना चाहिए क्योंकि कानों की सफाई अगर हम नहीं करेंगे तो धीरे-धीरे कान के अंदर जो हमारा महल है वह जनता जाएगा जनता जाएगा और एक समय ऐसा आएगा कि उसकी वजह से हमारे कान की सुनने की क्षमता बहुत ही ज्यादा कम हो जाएगी साथ ही कान में दर्द होना भी शुरू हो जाएगा!

नीम एक आयुर्वेदिक दवाई है जिसका उपयोग आप त्वचा की देखभाल के लिए कर सकते है। नीम का उपयोग त्वचा को साफ करने में मदद करता है। नीम पिम्पल, धब्बे और किसी भी प्रकार के स्किन इन्फेक्शन का इलाज कर सकता है। इसका इस्तेमाल भी आसान है जैसे नीम के पत्तों का पेस्ट बना लें और उसे 20 मिनट तक अपने चहरे पर लगा कर रखें। फिर इसे हल्के गर्म पानी से धो लें।

दलिया तेल, गंदगी और अन्य टॉक्सिन्स को बाहर निकल देता है। शहद में जीवाणुरोधी गुण होता है जो बैक्टीरिया से मुकाबला करता है और एक्ने (acne) बनाने के कारण को रोकती है और इसका ठंडक देने वाला गुण प्रभावित क्षेत्र को ठीक करने में मदद करता है और लाली और सूजन को रोकता है।

    लड़का हो या लड़की हर किसी को अपना चेहरा सबसे प्यारा होता है। यदि उस चेहरे पर दाने (Pimple) एवं  मुँहासे (Acne) आ जाते हैं तो बहुत बुरा लगता हैं, कहीं बाहर जाने से कतराते हैं, हर जगह अपना चेहरा छुपाने का कोशिश में लगे रहते हैं। सेल्फी के शौकीन होते हुए भी सेल्फी लेने से कतराते हैं वजह सिर्फ चेहरे पर दाने (Pimple) एवं  मुँहासे (Acne) का आ जाना… तो आइये जानते हैं दाने (Pimple) एवं  मुँहासे (Acne)  होने की वजह क्या है? और इसको हटाने का घरेलु उपाय  (how to remove pimple and acne at home).

आपको यह पता होगा की शराब और तम्बाकू हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही नुकसानदायक है. ये चीजे हमारे चेहरे के लिए भी सही नहीं होते. युवावस्था आने पर कई लड़के दूसरो की देखा – देखी में सिगरेट व तम्बाकू खाना लेना शुरू कर देता है. फलस्वरूप उनके face में कील – मुंहासे होने लगते है. आपको इन चीजो से बचना चाहिए.

ज्यादा अदरक खाएँ: अदरक के प्राकृतिक जीवाणुरोधी गुणों की वजह से, इसका सदियों से कोल्ड और साइनस (sinus) के लक्षणों के उपचार के लिए इस्तेमाल किया गया है। अदरक ऐसे गुणों के लिए भी जाना जाता है जो बलगम को तोड़ते हैं। अगर आप स्वाद को बर्दाशत कर सकते हैं, तो इसे कच्चा खाएँ या हल्के कैन्डीड फॉर्म (candied form) में खाएँ। आप अदरक को उबलते पानी में घिसकर एक चाय भी बना सकते हैं जो आपके गले को बलगम मुक्त करने के लिए दोगुना काम करेगी।

अधिक अपने आदि इस इस रोग इसके इससे इसे उपचार उसे एक ऐसे और कई कम कर करता है करते करना करें का का रस काली मिर्च किसी की की कमी कुछ के कारण के लिए के साथ कोई खाएं गरम ग्राम घी चम्मच चाहिए चूर्ण जब ज़रूरी जा जाए जाएगा जाती जाते जाना जाने जो ठीक डालकर तक तथा तरह तीन तेल तो दर्द दिन में दूध दें दो नमक नहीं नीबू पदार्थ पर पानी में पीने पूरी पेशाब प्याज प्रकार प्रतिदिन प्रोटीन फायदा बात बाद बार भी भोजन मात्रा मिलाकर यदि यह या ये रहता है रहती रहना रहे रोग रोगी को लक्षण लगता लहसुन लाभ ले लें वसा वह विटामिन व्यक्ति शरीर के शरीर में शहद सकता है सकते सभी समय सिर से से भी हम हमारे शरीर ही है कि हैं हो जाता है हो सकता होगा होता है होती होना होने

Bahut acche topic par post likhi hai aapne! aajkal pimples ki bahut jyada problem young generation me ho rahi hai….khubsurat banne ki chahat sabhi ko hoti hai…aapne jo upay bataye hain veh bahut kaam ke hain….dhanyabad!

भारतीय बकाइन को नीम के रूप में भी जाना जाता है, इसे विभिन्न त्वचा की समस्याओं के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें एंटीसेप्टिक और रोगाणुरोधी गुण हैं जो कि मुँहासो को बनाने वाले बैक्टीरिया को मारने में मदद करते हैं। इसके अलावा, नीम लालिमा और त्वचा की सूजन में आराम देता है। (और पढ़ें – नीम के फायदे इन हिंदी)

पिछले कई सालों से सिर दर्द, ठंड, खांसी, कंजस्टेड नाक, छाती और गले के कहर के इलाज के लिए विक्स वेपोरब का इस्तेमाल किया जा रहा है, लेकिन यह इसका एकमात्र उपयोग नहीं है। आप इसे कई अन्य चीजों के लिए भी उपयोग कर सकते हैं

परेशान करने वाली चीज़ों से दूर रहें: घरेलू क्लीनर्स, एनैमल्स (enamels), रंग के धुएँ और अन्य रसायन रेस्पीरेटरी स्थिति को बिगाड़ते हैं और बलगम के स्तर को बढ़ाते हैं। अपने घर में ताजी हवा आने के लिए अपनी खिड़कियों को खुला रखें, अपनी बीमारी के दौरान परेशान करने वाली चीज़ों को अंदर रखें और ऐसी जगह जाने से बचें जहाँ ये सब होने की संभावना है (जैसे बार या एक पेंट की दुकान।[४]

यदि आपको मिल गया है तो एक दाना दिया गया है जो वास्तव में दूर नहीं जा सकता है, विटामिन ई की गोली को ख़त्म कर दें (या कुछ आहार ई तेल खरीद लें) और अपने दोष को रगड़ें। आप इसे 10 मिनट या एक ही दिन में छोड़ सकते हैं, हालांकि खाद्य आहार उसी समय मॉइस्चराइज रखता है जैसे कि किसी भी लाली और दूषित घटते समय (जो वास्तव में आप की तलाश में हैं)। यह पिलकों को खोलने में मदद कर सकता है और आपको ब्रेकआउट्स बचा सकता है अगर आप इसे नियमित आधार पर उपयोग करते हैं।

कॉफी और शराब का सेवन करें। यह दोनो ही पेय आपके मुंह में बैक्टीरीया को बढ़ाते है, जो सांस की दुर्गंध का मुख्य कारण होते हैं। यह आपके मुंह को भी सूखाते है, जिस वजह से बैक्टीरिया दीर्घ काल तक मुंह में ही रहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *