“मुंह से छुटकारा पाने का सबसे आसान तरीका _प्राकृतिक मुँहासे उपचार”

Bhai mere chehre bhut oily h or khub daane or keel muhase ho rhe h or agar m chehre ko thoda daabata hu to isme se white color ka bhut hi gaandi badbuu ka paste nikal taa h or kabhi kabhi white color ki keel bhi nikalti h us ko nikal kr fodo to same wesa hi paste baan jta h isi chehre se kaise khatam kru. …. please batayega journey. …

कॉफी और शराब का सेवन न करें। यह दोनो ही पेय आपके मुंह में बैक्टीरीया को बढ़ाते है, जो सांस की दुर्गंध का मुख्य कारण होते हैं। यह आपके मुंह को भी सूखाते है, जिस वजह से बैक्टीरिया दीर्घ काल तक मुंह में ही रहते हैं।

मुंह में अगर छाले हो जाएं तो जीना मुहाल हो जाता है। खाना तो दूर पानी पीना भी मुश्किल हो जाता है। लेकिन, इसका इलाज आपके आसपास ही मौजूद है। Muh ke chhale मुंह के छाले गालों के अंदर और जीभ पर होते हैं। असंतुलित आहार, पेट में दिक्कत, पान-मसालों का सेवन छाले का प्रमुख कारण है। छाले होने पर बहुत तेज दर्द होता है। आइए हम आपको Muh ke chhale मुंह के छालों से बचने के लिए घरेलू उपचार बताते हैं।

जैसा कि आप जानते हैं, त्वचा हालत का एक संकेतक हैशरीर। चेहरे पर मुँहासे की उपस्थिति के कारण दोनों बाह्य और आंतरिक कारकों का असर हो सकता है। जलवायु की स्थिति, कॉस्मेटिक तैयारी का उपयोग, पर्यावरण की स्थिति बाह्य कारक हैं जो त्वचा की स्थिति को प्रभावित करते हैं। उदाहरण के लिए, गर्मी में मुंह का प्रकटन, पराबैंगनी प्रकाश या वृद्धि हुई पसीना आना के परिणामस्वरूप हो सकता है। त्वचा का संदूषण चेहरे पर छोटे खांघों की उपस्थिति की ओर जाता है

Oily skin सबसे परेशान त्वचा के मुद्दों में से एक है, जो आपको नियमित रूप से सिर्फ अपने चेहरे से तेल की परतों को पोंछने पर मजबूर करते रहता है | लेकिन चिंता न करें, क्योकि इस समस्या का समाधान एक ice cube हैं, यह आपकी त्वचा में तेल स्राव को कम करने और त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद करता है | ऐसा करने से आपको glowing face कुछ ही देर में मिल सकती है |

जल्दी से कील मुहांसों से मुक्ति पाने के लिए सबसे पहले अपना पेट सॉफ रखें बाहर का खाना जैसे की जंक फूड तो बिल्कुल हि ना खाएँ प्रापर नींद लें तनाव मुक्त रहें चेहरे को धूल मिटी से बचाएँ हरी पतेदार सब्जी खाएँ साबुन का प्रयोग ना करें|

अगर डायबिटीज के रोगियों को कहीं पर चोट लग जाती है तो उस जगह पर जहाँ चोट लगी है वहां सुबह मुँह की लार लगाये घाव भरने लगेगा। क्योकि मुंह की लार एंटीसेप्टिक होती है। वह रोगों की सबसे अच्‍छी दवा हैं, जो आपको फ्री में मिलती हैं। जिसके असंतुलन के कारण ही आज व्यक्ति कई रोगों से ग्रस्त है। जबकि किसी भी स्वस्थ व्यक्ति के मुंह में प्रतिदिन 1000 से 1500 मिलीलीटर लार बनती है जो मुंह में मौजूद कैविटी, हानिकारक बैक्टीरिया और बारीक भोजन के कणों को साफ करने में मदद करती है। लार में ‘सलाइवा पैरोटिड ग्लैंड हार्मोन’ (एसपीजीएच) पाया जाता है जो त्वचा से उम्र के प्रभावों को कम करते है और आप लंबे समय तक युवा दिख सकते हैं। साथ ही लार में लाइसोजाइम नामक एंटी-बैक्टीरियल तत्व और इम्यून प्रोटीन ‘ए’ होते हैं जो मसूढ़ों और गले को कई प्रकार के हनिकारक इंफेक्‍शन से बचाते हैं।

पुदीने की चाय : इस चाय में बालों को प्राकृतिक दिखाने के सारे गुण मौजूद होते है तथा यही कारण है की आपको इसका सेवन ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए पुदीने की चाय का सेवन करके मूछो के बालों की असली रंगत वापिस मिलती है इससे भी आप मूछ और दाढ़ी के बालों को काला कर सकते है

वात और कफ को शांत करने के लिए सूखी अदरक और काली मिर्च उत्कृष्ट हैं। ये श्वसन प्रणाली के स्वास्थ्य को बनाए रखने और पाचन और संचलन को बढ़ाने में सहायक होती है। ये सामग्री शरीर में गर्मी उत्पन्न करती हैं।

latest fashion trends Cricket bollywood latest news entertainment news entertainment bollywood_actress lifestyle news lifestyle_news Entertainment_news fashion fashion_traind beauty tips health news fashion news lifestyle bollywood news bollywood news in hindi love latest

Psoriasis के कारण inlcude अपने प्रतिरक्षा प्रणाली, के कुछ विकार है जो सफेद रक्त कोशिकाओं संक्रमण से अपनी जीव की रक्षा के लिए जिम्मेदार हो सकता है कि अनुसंधान से पता चलता है। जब रोगी सोरायसिस से ग्रस्त है, उनकी त्वचा टी कोशिकाओं (श्वेत रक्त कोशिका) गतिविधि है, जो त्वचा कोशिकाओं के तेजी से विकास करने के लिए योगदान देता है क्योंकि सूजन है। यह त्वचा पर उठाया पैच में पता चला है।

Streptococcal संक्रमण: कुछ सबूत से पता चला कि streptococcal संक्रमण पट्टिका छालरोग करना पड़ेगा यह था के लिए धन्यवाद। वे बैक्टीरिया guttate सोरायसिस के लिए ला सकता है। Psoriasis के इस तरह त्वचा पर होने वाली छोटी लाल धब्बे के माध्यम से प्रकट होता है।

मुंह में बदबू आने का सबसे कारण है खराब पाचन तंत्र। जब किसी का पाचन ठीक नहीं होता है तो उसके मुंह से बदबू आती है। इसलिए खाना खाने के बाद सौंफ को अच्छी तरह चबाएं। इससे पाचन तो सही रहेगा ही साथ ही सांसों और मुंह से भी खुशबू आएगी।

फूड एलर्जैन्स से बचें: किसी भी खाने के लिए एलर्जी या संवेदनशीलता बलगम का निर्माण एवं उसे गाढ़ा कर सकती है। अगर आपकी बलगम की समस्या स्थायी है और किसी विशिष्ट कोल्ड या बीमारी से संबंधित नहीं है, तो उसका टेस्ट कराना फायदेमंद हो सकता है क्योंकि इससे आप यह जान पाएँगे कि कहीं इस बलगम का कारण फूड एलर्जी तो नहीं है। सबसे आम फूड एलर्जैन्स हैं:

फेसबुक के जरिए मारिया को जब पता लगा तो उसने सुरेश पर शादी करने का दबाव डाला, सुरेश ने उससे भी शादी कर ली। पुलिस को जब मारिया की लाश मिली तो वह सुरेश की तलाश में उसके गांव पहुंचे। सुरेश को इसकी जानकारी हो गई और वह नेपाल भाग गया। पुलिस ने उसे नेपाल से गिरफ्तार किया।

कभी न कभी इस समस्या का सामना सबको करना पड़ता है।खूबसूरत मुस्कान हर चेहरे को आकर्षक बनाती है| अगर प्यारी सी मुस्कान के बावजूद कोई आपकी सांसों की दुर्गंध के कारण पास आकर बात ना करना चाहे, तो आज के इस लेख को पूरा पड़ें , इस नुस्खे में आप अपनी समस्या का समाधान पा लोगे |

Masur ki dal 2 chmmach lekar mahin pis le. Isme thoda sa ghee or dudh milakar patla – patla lep bana le. Is lep ko muhaso par lgaye or sukhne de, sukhne ke bad chehra saf pani se dho de. Pimples thik hone lagenge

जिन लोगो को कब्ज की समस्या रहती है उन्हें कील – मुंहासे होने का सबसे ज्यादा खतरा होता है. जब हमारे शरीर से टोक्सिन (मल – मूत्र ) बाहर नहीं निकलते तो वह हमारे त्वचा पर फोड़े – फुंसियों के रूप में बाहर निकलता है. इसलिए अपने पेट को अच्छी तरह साफ़ कर ले.

दालचीनी में शक्तिशाली रोगाणुरोधी, एंटी-इंफ्लेमेटरी, संक्रामक विरोधी और एंटी-क्लोटिंग गुण होते हैं। यह एंटी-ऑक्सिडेंट, पॉलीफेनोल और मैंगनीज, लोहा और आहार फाइबर जैसे खनिजों का भी एक अति उत्कृष्ट स्रोत है। यह सभी आवश्यक पोषक तत्व आपके शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। इसके अलावा यह शर्करा, कार्बोहाइड्रेट, फैटी एसिड और एमिनो एसिड का एक प्राकृतिक स्रोत है| तो आइये जानेते है दालचीनी के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ के बारे में-

पिम्पल्स के दाग कैसे दूर करे – आधा-आधा चम्मच नींबू का रस और हल्दी में चौथाई चम्मच नमक और एक चम्मच पानी मिलाकर गर्म करके चेहरे पर लगाये फिर सूखने के बाद चेहरा धोयें। चेहरे के दाने मुँहासे व उनके निशान मिट जायेंगे। यह हर चौथे दिन लगायें

One thought on ““मुंह से छुटकारा पाने का सबसे आसान तरीका _प्राकृतिक मुँहासे उपचार””

  1. दोस्तों पिम्पल्स हटाने के तरीके, Home remedies tips to remove Pimples (Acne) in Hindi का ये लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट कर के बताये और अगर आपके पास कील मुंहासे का इलाज के घरेलू उपाय और देसी नुस्खे है तो हमारे साथ शेयर करे।
    Sir mere face par pimpals ho gaye hai aur kali si keel ho jati hai aur funsi jesi ho jati hai please help me aur sir agar ham garmi ke mosam me haldi lagae to koi nuksan to nahi hoga kyo haldi garm hoti hai
    रोजाना सुबह खाली पेट दो से तीन लहसुन की कलियाँ खाएं। अगर खाने में परेशानी हो तो आप लहसुन के तेल से मसाज भी ले सकती हैं। अगर ये तेल आपको बाजार में मिलना मुश्किल हो तो घर पर मसाज ऑयल बनाएं। उसके लिए एक चम्मच नारियल तेल, एक चम्मच सरसों का तेल, एक चम्मच तिल का तेल लें और इन तीनों में 8 से 9 कलियाँ लहसुन की डालकर हल्का गुनगुना कर लें। फिर इस तेल से मसाज करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *