“सबसे अच्छा मुँहासे उपचार कैसे करें +blackheads मुक्ति acne.org से छुटकारा”

A) पंप या मुँहासे का कारण बनता है जब त्वचा ग्रंथियों के उत्पादन सेबम (त्वचा के तेल) के छिद्र भरा हो जाता है और इस प्रकार सेबम बच नहीं सकते वे हार्मोनल परिवर्तन, तनाव, पसीना, अत्यधिक नमी और स्टेरॉयड के उपयोग सहित कई कारकों से शुरू हो रहे हैं।

चेहरे के पिंपल्ज़ किस प्रकार से मिटेंगे मेरे चेहरा पिंपल्ज़ से बहुत जाएदा भर गया है मेरा पूरा चेहरा इतना खराब हो गया है कि मुझे भी अच्छा नहीं लगता पता नहीं कि ठीक भी होंगे या नहीं बहुत ही परेशान हूँ मेरी परेशानी का हल ज़रूर बताएँ|

March Masik HoroscopeNarendra ModiTripura Election Result LivePNB Fraud CaseShare MarketHoli 2018Weekly Horoscope in HindiMeghalaya Chunav Parinam 2018Aaj Ka RashifalTripura Chunav Result 2018Holi 2018 CelebrationTripura Chunav 2018Happy Holi 2018 WishesKiren RijijuTripura Elections 2018RRB Recruitment 20182018 RashifalNagaland Chunav 2018Nagaland Chunav 2018 ParinamSBI Interest RatesSensex Today LiveTripura Chunav Parinam 2018Share BazarAnshu Prakashहिंदी न्यूज़Meghalaya Chunav 2018Rajasthan Police admit CardAssembly Elections 2017Madhya Pradesh NewsChhattisgarh NewsTV News in HindiHimachal Pradesh NewsMaharashtra NewsPunjab NewsKashmir NewsEducation News in HindiVasthu Tips in HindiRajasthan NewsGujarat NewsBihar NewsHealth News in HindiMovie News in HindiSports News in HindiJokes in HindiHindi Headlines

हार्मोन परिवर्तन: सोरायसिस हार्मोन और जीव के अधीन है परिवर्तन के साथ दृढ़ता से जुड़ा है। सोरायसिस में अपने चरम यौवन के दौरान अवधि या रजोनिवृत्तिके दौरान है। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं की त्वचा बेहतर स्थिति का अनुभव। लेकिन जैसे ही बच्चे का जन्म होता है यह काफी अन्य तरह के दौर है।

आज के समय में मुहासे होने आम बात है. लेकिन आज काल के लडके और लडकियों  अपने मुहासों से छुटकारा पाने के लिए अलग अलग तरह के Fairness Cream के इस्तेमाल करते है. और कई बार उनके मुहासे उनसे ठीक भी नहीं होते है. और बहुत से लोगो को यह सूट भी नहीं करती है. और इनको लगाने से उनको नुकसान भी  हो जाता है. और यह अभी Fairness Cream बहुत महंगी भी होती है.जिनको बहुत से लोग खरीद भी नहीं सकते है इस हम आपको इन मुहासों को ठीक करने के कुछ घरेलु उपाय बतायेगे जिनको की आप बड़ी ही आसानी से कर सकते है.

Sir mujhe pimple ke sath2 bade2 ghao hoo jate h jisme push bhar jata h. Maine homeopathy ayurvedic and alopethic medicine li h phir v 4 year se padeshan hu. Or chechak ke daag hatane k v upay bataye. Please please reply sir

इसके साथ ही कुछ लक्षण psoriasis के लक्षण हो सकता है। यह psoriasis vulgaris, जो रोग, guttate सोरायसिस छोटे धब्बे, जो बूंदों की तरह कर रहे हैं की विशेषता, व्युत्क्रम सोरायसिस underarms क्षेत्र, नाभि और नितम्बों, पास में एक नियम के रूप में की खोज की, और तरल अंदर के साथ छोटे फफोले द्वारा देखा pustular सोरायसिस का सबसे व्यापक प्रकार है शामिल हैं। इसके अलावा, एक अलग-अलग रोग हथेलियों और तलवों पर प्रकट होता palmoplantar सोरायसिस कहा जाता है।

सोने के अभाव, बहुत अधिक तनाव, अस्वस्थ भोजन की आदत और एक व्यस्त जीवन शैली भी मुँहासे पैदा होने का कारण हो सकती है। मुँहासे चेहरे, छाती पर, पीठ और सिर पर दिखाई दे सकते हैं। यद्यपि इनका कोई निश्चित इलाज नहीं है, किंतु कई सरल घरेलू प्राकृतिक सामग्री हैं, जिनका उपयोग मुँहासे हटाने के लिए किया जा सकता है।

यदि आप अपने चेहरे पर कपूर के अंदर नींबू रस , हल्दी पाउडर , और 2,3, चम्मच बेसन मिला कर लगते है. तो इससे आपके मुह से मुहासे और झुरिया साफ हो जाती है और यदि बेसन को लस्सी या दही में मिला कर फेस पर लगाने से भी झाइयां और कील मुँहासे दूर हो जाते है.

दही में ऐसे एंजाइम (enzymes) होते हैं जो किसी भी दाग धब्बे को दूर कर सकते हैं, और शहद प्राकृतिक रूप से आपकी रंगत को निखारता है। 1 चम्मच दही को 2 चम्मच शहद के साथ मिश्रित करें। इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाएं और काले धब्बों पर खासकर ध्यान केन्द्रित करें। इस पैक को 20 मिनट तक अपने चेहरे पर रहने दें और फिर इसे हाथों से रगड़कर पानी से साफ़ कर लें। अच्छे परिणामों के लिए इस उपचार का प्रयोग रोजाना करें।

मुल्तानी मिट्टी तैलीय और मुँहासे प्रवण त्वचा के लिए अच्छी है और यह अतिरिक्त तेल को अवशोषित कर, उनको रोम छिद्र से मुक्त करती है। यह आपके रंग में सुधार करने में भी मदद करती है। (और पढ़ें – आठ दिन के लिए यह उबटन लगाएँ, काले से गोरा रंग और सुंदर त्वचा पाएँ)

सूर्य किरणों: रोगियों के बहुमत आमतौर पर लगता है कि सूरज की रोशनी के लिए उनकी हालत अच्छी है। फिर भी, कुछ विचार बहुत अधिक सूरज की रोशनी अपने लक्षण बदतर बना देता है कि। धूप की कालिमा सोरायसिस एक बहुत बढ़ रहा है।

काले दाग (black spots) धब्बे होने के कई कारण है जिनमे से मुख्य कारण कील, मुहासे, काले सिरे (ब्लैक हेड्स), फुडिया होते है। मुहासे से छुटकारा, सूरज की तेज किरण के कारण चेहरे के गड्ढे, दाग धब्बे ओर भी बढ़ जाते है जो चेहरे के सावले होने का कारण बनती है। इसके लिए आप जब भी बाहर जाए तो सन क्रीम लगा कर जाए और नीचे कुछ विधिया दी गई है मुहांसे के कारण जो दाग धब्बे से निजात दिलाने मे आपकी मदद करेगे।

त्वचा को लंबे समय तक खूबसूरत बनाए रखना है तो आपको उसका प्राकृतिक उपचार करने की जरूरत है।इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसे तरीको के बारे में बताने जा रहे है जिनके इस्तेमाल से आप सिर्फ कुछ दिनों में पिम्पल्स की समस्या से छुटकारा पा सकती है।

भारतीय बकाइन को नीम के रूप में भी जाना जाता है, इसे विभिन्न त्वचा की समस्याओं के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें एंटीसेप्टिक और रोगाणुरोधी गुण हैं जो कि मुँहासो को बनाने वाले बैक्टीरिया को मारने में मदद करते हैं। इसके अलावा, नीम लालिमा और त्वचा की सूजन में आराम देता है। (और पढ़ें – नीम के फायदे इन हिंदी)

नोट : इस आर्टिकल में दी गई जानकारियां रिसर्च पर आधारित हैं । इन्‍हें लेकर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूरी तरह सत्‍य और सटीक हैं, इन्‍हें आजमाने और अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

यह सबसे आसान तरीका है जिससे हमारे शरीर को थकान से छुटकारा मिलता है। टूटते बालों के पीछे का सबसे प्रमुख कारण थकान है। इस आसन को करने से मासिक धर्म में होने वाले दर्द से छुटकारा मिलता है। इससे पाचन तंत्र भी सही रहता है।

नींबू के अम्लीय गुण मुँहासे के उपचार में बहुत उपयोगी हो सकते हैं। नींबू गंदगी को साफ कर बाहर करता है, जो रोम छिद्र में जमा हो जाती है। आप दैनिक रूप से अपनी त्वचा पर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन अगर यह त्वचा को अधिक शुष्क कर रहा है तो हर दो या तीन दिन में उपयोग करें।

नमक में मौजूद एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक गुणों के कारण यह कैविटी के इलाज के लिए इस्‍तेमाल किया जाता है। यह दर्द और सूजन को कम करने, किसी भी प्रकार के संक्रमण और मुंह में बैक्‍टीरिया की वृद्धि को रोकने में मदद करता है। इसके लिए एक चम्‍मच नमक को गर्म पानी में मिला लें। फिर इस पानी को मुंह में कुल्‍ला करें। समस्‍या के दूर होने तक इस उपाय को दिन में तीन बार करें। इसके अलावा, आधा चम्‍मच नमक, थोड़ा सा सरसों का तेल और नींबू का रस मिलाकर पेस्‍ट बना लें। इस पेस्‍ट से कुछ मिनटों तक मसूड़ों पर मसाज करें। बैक्‍टीरिया को मारने के लिए इस उपाय को कुछ दिन तक दिन में दो बार करें।

च्युइंगम सलाइवा के उत्पादन को उत्तेजित करता है जो एसिड, बैक्टीरिया और गंध से पैदा होने वाले कणों को खत्म करने में मदद करता है। तो शराब पीने के बार च्युइंगम चबाने से मुंह से आने वाली शराब की बदबू कम हो जाती है। [ये भी पढ़ें: पालतू कुत्ते से मक्खियों को दूर रखने के उपाय]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *