“स्वाभाविक रूप से मुँहासे से छुटकारा कैसे करें +अपने चेहरे पर मुंह से छुटकारा पाने के लिए”

पिम्पल्स का इलाज के लिए रसायनिक पदार्थ का उपयोग करने से बेहतर होगा की आप प्राकृतिक उत्पादो का उपयोग करे। घरेलू उत्पाद बहुत सस्ते होते है और इनका कोई बुरा असर भी नही पड़ता। चेहरे पर दाने के उपाय, त्वचा की देखरेख करना वो भी सुंदरता के साथ यह बहुत ज़रूरी है। कुछ घरेलू उपचार की सूची नीचे दी गई है जो काले दाग (black spots) धब्बे, मुँहासे के निशान से दूर रहने मे आपकी मदद करेगे।

Garlic  has strong antibacterial properties and fights pimple very soon. Crush two to three cloves of garlic and mix with water. Once it forms a paste like structure apply gently on the skin. After drying wash it off. Follow with face wash as the smell is very strong of garlic.

आयुर्वेद में, हल्दी को कैविटी दर्द से राहत प्रदान करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसमें मौजूद एंटी-बैक्‍टीरियल गुणों के साथ एंटी-इंफ्लेमेंटरी गुण मसूढ़ों को स्‍वस्‍थ रखने के साथ बैक्‍टीरियल संक्रमण के कारण दांतों के गिरने की समस्‍या को भी रोकता है। प्रभावित दांत पर थोड़ी सा हल्‍दी पाउडर लगाकर इसे कुछ मिनटों के लिए छोड़ दें। फिर गुनगुने पानी से अच्‍छे से कुल्‍ला कर लें।

आप एक चौथाई कप सेब के सिरके में तीन चौथाई कप पानी मिला कर एक घरेलू टोनर बना सकते हैं। इस टोनर को रुई की मदद से त्वचा पर लगाएं। इसे पांच से 10 मिनट तक लगा रहने दें। फिर ठंडे पानी से धो लें। सकारात्मक परिणाम के लिए इस प्रक्रिया को सप्ताह में यह कई करें।

ट्राईमिथाइलएमीन्यूरिया (trimethylaminuria): यदि आपका शरीर ट्राईमिथाइलएमीन्यूरिया रसायन को नहीं तोड़ पाता हैं तो वह लार में छूट जाता हैं जिसके कारण मुँह से दुर्गंध आती हैं । यह आपके पसीने के द्वारा जारी हो सकता हैं, जो कि शरीर की दुर्गंध का लक्षण हो सकता है ।

टॉन्सिल स्टोन्स (tonsil stones): ये टॉन्सिल पर सफेद धब्बे के रूप में दिखाई देते हैं जो कि केल्सीकृत भोजन, बलगम और बैक्टीरिया की गांठ हैं। यदि दिखें ,तो गलती से गले का संक्रमण मान लिए जाते हैं हालांकि कभी-कभी वे नग्न आंखों से दिखाई भी नहीं देते। हो सकता हैं आपने कसैला स्वाद अनुभव हो या निगलते समय दर्द महसूस हो।[६]

4  जायफल को गाय के दूध के साथ घीसे और लेप तैयार करें इस लेप को चेहरे पर लगाये कुछ देर बाद इसे मलते हुए उबटन की तरह निकल दे यह प्रयोग 4 से 5 दिन करे आपको मुँहासे से राहत मिलेगी .और दाग धब्बे भी दूर होंगे .

हल्दी में मौजूद एन्टीसेप्टिक और एन्टी-इन्फ्लैमटोरी गुण छालों को न सिर्फ ठीक करते हैं बल्कि यह गुण छालों को दुबारा होने से भी रोकते हैं। हल्दी पाउडर में कुछ बूंद पानी मिलकर पेस्ट तैयार  कर ले और अब इस पेस्ट को छालों पर लगायें, इससे दर्द से तुरन्त राहत मिल जाएगा।

अधिकतर लोगों को खुद भी नहीं मालूम होता की उनके मुँह से दुर्गन्ध आती है, ये जानने के लिए की आप की मुंह से सांस की बदबू आती है की नहीं, आप मुंह के आगे हाथ रखे और ज़ोर से साँस छोड़े और अपने हाथ को सूँघे, अब अगर हाथ से बदबू आये तो आपको मुंह से बदबू आने की समस्या है। मुंह और जीभ के छाले, मसूड़ो में इन्फेक्शन और बार बार मुंह में लार बनना मुंह की बदबू के कुछ लक्षण है।

दालचीनी आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होती है, लेकिन यह सोचकर इसका अधिक मात्रा में सेवन न करें। यदि आपको लगता है कि एक बार में जादा खुराक लेने से आपको दालचीनी का जल्दी लाभ मिलेगा, तो आप जो सोच रहे है वह बिलकुल गलत है। क्योंकि इसके बहुत जादा सेवन से आपको लाभ मिले ना मिले परंतु इसके दुस्प्रभाव का सामना आपको अवश्य करना पड़ सकता है

जैतून का तेल(Extra virgin olive oil) पौष्टिक गुणों के साथ भरपूर है। यह उचित ब्लड सर्कुलेशन को बनाए रखता है और त्वचा में सुधार करता है। आप कुछ समय के लिए जैतून के तेल के साथ अपने प्रभावित क्षेत्रों पर मालिश कर सकते हैं। इसे दैनिक रूप से उपयोग करें। 

Tags:muhase hatane ke upay, Pimple hatane ke upay, pimple ke gharelu nuskhe, pimple ke upay in hindi, Pimples ka ilaj, चेहरे के गड्डे, चेहरे के गड्ढे, चेहरे पर फुंसियां, चेहरे से फुंसी, फुंसी का घरेलू इलाज, मुहासे से छुटकारा

भारतीय घर आम तौर पर मसालों और जड़ी-बूटियों से भरे होते हैं जो रोजाना खाना पकाने में इस्तेमाल होते हैं। लेकिन आप इन मसालों और जड़ी-बूटियों को देसी काढ़े बनाने के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं जो न केवल रोगों का इलाज करते हैं बल्कि समग्र स्वास्थ्य में सुधार करते हैं। काढ़ा एक पेय है जिसमें जड़ी-बूटियों और मसालों को पानी में आम तौर पर लंबे समय के लिए उबाला जाता है। जड़ी बूटियों का चुनाव आप अपनी बीमारी के अनुसार कर सकते हैं। स्वाद भी उसी के अनुसार भिन्न होता है। एक बार जब काढ़ा तैयार हो जाता है तो आप दिन में कई बार काढ़े का सेवन कर सकते हैं। आप इसे स्टोर भी कर सकते हैं और फिर इसे पीने से पहले गर्म कर सकते हैं। यहां पांच ऐसे आयुर्वेदिक काढ़े बताये गए हैं जिनका आपको नीचे दी गई बीमारियों में इस्तेमाल करना चाहिए।

इंटरनेट डेस्क। मुंह में छाले होना युं तो बहुत आम सी बीमारी है परन्तु अगर इसका समय रहते मुंह के छाले का इलाज न करे तो ये बड़ी परेशानी का कारण बन सकती है। छाले होने के कई कारण हो सकते है जिसमें से ज्यादा चटपटा, मसालेदार और तीखा खाना मुख्य कारण है। कुछ लोगों को ये छाले बार-बार होते हैं और परेशान करते हैं। ऐसे लोगों को अपनी पूरी डॉक्टरी जाँच करानी चाहिए, ताकि उनके कारणों का पता लगाकर उचित इलाज किया जा सके। वहीँ कुछ घरेलु उपाय है जो आपको इससे निजात दिला सकते हैं…

1- अगर आपको सर्दी जुकाम की समस्या है तो इससे आराम पाने के लिए 10 ग्राम मुलेठी, 10 ग्राम काली मिर्च, 5 ग्राम लौंग, 5 ग्राम हरीतकी और 20 ग्राम मिश्री को एक साथ मिलाकर पीस लें. अब इसके पाउडर में 1 चम्मच शहद मिलाकर चाट लें. ऐसा करने से  कफ, सर्दी-खांसी और जुकाम समस्या दूर हो जाएगी.

अगर आप भी दाग – धब्बो या कील मुहांसों से परेशान है तो यह Article आपको इनसे छुटकारा पाने में बहुत Help कर सकता है. आप इस आर्टिकल में बताये गये Tips को अपनाकर अपने चेहरे से कील – मुंहासो को बड़ी आसानी खत्म कर सकते है.

चन्दन, मुलैठी और हल्दी जैसे घरेलू नुस्खे त्वचा के पुराने दाग धब्बों के निशानों को भी हल्का करने की क्षमता रखते हैं। हालांकि काफी अच्छी तरह से इनका इस्तेमाल करने पर भी इस बात की काफी संभावना होती है कि इनका असर काफी महीनों में दिखे।

चेहरे से  फुंसी मुहांसे से बचने के लिए साफ सफाई का पूरा ध्यान रखे, कील मुहासों से बचने के लिए अपने चेहरे को पूरी तरह साफ रखे और चेहरे को साफ पानी से ही धोए और धोते समय चेहरे को ज्यादा न रगड़े व चेहरे को बार बार हाथ न लगाये जिससे हाथ पर जमा धुल के कण चेहरे पर नही आयंगे तोलिये और रुमाल को बिना धोए अधिक समय तक उपयोग मे न लाये नही तो पिम्प्लेस और अधिक हो जायंगे

यह उनमे से किसी के भी साथ हो सकता हैं जो लोग व्रत रखते हैं, चाहे वो धार्मिक कारणों के लिए, या जो खाने में रूचि नहीं लेते। यदि आप खाने में रूचि नहीं लेते हैं तो मुँह से दुर्गंध ही एक कारण हैं खुद को भूखा न रखने का।

इसके साथ ही कुछ लक्षण psoriasis के लक्षण हो सकता है। यह psoriasis vulgaris, जो रोग, guttate सोरायसिस छोटे धब्बे, जो बूंदों की तरह कर रहे हैं की विशेषता, व्युत्क्रम सोरायसिस underarms क्षेत्र, नाभि और नितम्बों, पास में एक नियम के रूप में खोज की, और तरल अंदर के साथ छोटे फफोले द्वारा देखा pustular सोरायसिस का सबसे व्यापक प्रकार है शामिल हैं। इसके अलावा, एक अलग-अलग रोग हथेलियों और तलवों पर प्रकट होता palmoplantar सोरायसिस कहा जाता है।

वैज्ञानिकों का मानना कि सामान्य जनसंख्या का कम से कम 10 प्रतिशत में से एक या अधिक जीन है कि छालरोग के लिए एक गड़बड़ी पैदा की इनहेरिट होती। हालाँकि, केवल 2 प्रतिशत से 3 प्रतिशत जनसंख्या का रोग विकसित करता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि छालरोग विकास करने के लिए एक व्यक्ति के लिए जीन है कि छालरोग कारण और विशिष्ट बाह्य कारकों “ट्रिगर के रूप में.” जाना जाता करने के लिए उजागर किया का एक संयोजन व्यक्तिगत होना चाहिए

अपनी अपने अब अमेरिका आज आप इस इस के उन की उन के उन्हें उन्होंने उस का उस की उस के उस ने उसे एक ऐसा ऐसे कई कभी करते करने का काम कारण किया किसी कुछ के बाद के लिए के साथ को कोई क्या गए घर जब जा जाता है जाती जाने जिस जीवन जुगुनी जो ज्यादा तक तरह तुम तेजेंद्र तो था था कि थी थीं थे दवा दिन दिया दिल्ली दी दीक्षा दे देश नहीं ने कहा नेपाल के पटना पति पत्नी पर पहले फिर फिल्म फोन बन बना बहुत बात बेटी भाजपा भारत भी मन मुंबई मुझे में मेरी मेरे मैं ने यह या रहा है रही रहे हैं रुपए लगा लिया ले कर लेकिन लोग लोगों वह वाली वाले वे सब समय साल से हम हर ही हुआ हुई हुए है और है कि हैं होगा होता है होती होने

अपनी त्वचा को धूप से बचाएं: सूर्य कि UV किरणे, त्वचा कि पिग्मेंट निर्माण करने वाली कोशिकाओं को उत्तेजित करती हुई आपके मुँहासों के धब्बों को ओर ज्यादा खराब कर सकती है |[१]अगर आप धूप में जा रहें हैं, तो सनस्क्रीन या चौड़ी टोपी पहने और जहाँ तक हो छाँव में चलें |

One thought on ““स्वाभाविक रूप से मुँहासे से छुटकारा कैसे करें +अपने चेहरे पर मुंह से छुटकारा पाने के लिए””

  1. मुंह से आने वाली शराब की बदबू से बहुत से लोग परेशान रहते हैं और इसे दूर करने के उपाय के बारे में जानने की कोशिश करते हैं। मुंह में कुछ वोलेटाइल मॉलिक्युल्स होते हैं जिसकी वजह से मुंह से बदबू आती है। शराब भी एक वोलेटाइल मॉलिक्युल्स है जिसकी वजह से बदबू की समस्या होती है। शराब आसानी से पचाने में परेशानी होती है क्योंकि शरीर इसे टॉक्सिन के रूप में देखता है। हमारा लीवन एक ड्रिंक को पचाने में एक घंटा लेता है। इस धीमे प्रोसेस की वजह से एल्कोहल आपकी रक्त कोशिकाओं में इकट्ठा हो जाता है जिस कारण बदबू आती है। आइए जानते हैं मुंह से शराब की बदबू कैसे दूर करें। [ये भी पढ़ें: शहद और नींबू के रस की मदद से करें खांसी का इलाज]
    मुँहासे को बंद करने का एक और छोटा तरीका नींबू का रस का उपयोग कर रहा है, यह आहार में समृद्ध है। नींबू का रस पंपों को तेजी से सुखा देता है चमकदार नींबू के रस का उपयोग करने के लिए सकारात्मक रहें और अब बोतलबंद रस नहीं है, जो संरक्षक हैं। इस उपचार को लागू करने के लिए कई दृष्टिकोण हैं     टूथपेस्ट को छोड़ दें ……….
    जब भी आपको अपने घर से बाहर किसी काम के लिए जाना होता है तो उसके बाद जब आप घर आते हो तो तब आप अपना मुँह अवश्य धो ले. बाहर के प्रदूषण से आपके चेहरे पर धूल – मिटटी जम जाती है. जो हमारे फेस को नुकसान पहुँचा देता है. आगे से इस बात का ख्याल जरुर रखे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *